एमपी सरकार और दिल्ली पुलिस में टकराव, बिना अनुमति भोपाल से युवक गिरफ्तार

delhi-police-arrest-bhopal-boy

भोपाल। राज्य सरकार और दिल्ली पुलिस में टकराव की खबर सामने आई है। दिल्ली पुलिस ने भोपास से एक युवक को गिरफ्तार किया है। युवक पर पीएम मोदी के खिलाफ लिखने का आरोप है। इस मामले में प्रदेश के गृह विभाग ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को पत्र लिखा है। और इस कार्रवाई को नियम विरूद्ध करार दिया है। अभिषेक के खिलाफ स्पेशल साइबर सेल ने एक महिला की शिकायत पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का मामला दर्ज किया गया है। अभिषेक को पुलिस ने बुधवार को दिल्ली कोर्ट में पेश किया।

दरअसल, अभिषेक मिश्रा सोशल मीडिया कंपनी का संचालन करते हैं। वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। उन पर आरोप है कि वह सोशल मीडिया पर मोदी सरकार के खिलाफ पोस्ट लिखते हैं। अभिषेक छतरपुर के रहने वाले हैं। राजधानी भोपाल में उनका दफ्तर है। उनके पिता ने बुधवार को सूचना दी है कि अभिषेक को कुछ लोग उनके भोपाल स्थित निवास से उठा ले गए हैं।  इसके बाद से अभिषेक मिश्रा के संबंध में कोई जानकारी नहीं मिल रही है और मोबाईल भी बंद है। स्‍थानीय पुलिस द्वारा खोजबीन करने पर अभिषेक मिश्रा के संबंध में उसकी कंपनी सोशल मीडिया के डायरेक्‍टर अंशुमान सिंह से जानकारी प्राप्‍त हुई कि अभिषेक मिश्रा प्रवीण कुमार, निरीक्षक, सायबर क्राईम यूनिट, स्‍पेशल सेल दिल्‍ली पुलिस द्वारा 22 जनवरी 2019 को गिरफ्तार किया गया है। उनके खिलाफ एक महिला ने शिकायत दर्ज करवाी थी। 

मध्‍यप्रदेश शासन के गृह विभाग द्वारा दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर को लिखे पत्र में उपरोक्‍त जानकारी देते हुए लिखा गया है कि पूरे घटनाक्रम में ऐसा प्रतीत होता है कि दिल्‍ली पुलिस की स्‍पेशल सेल (एसबी) टीम ने गिरफ्तारी के समय माननीय उच्‍चतम न्‍यायालय के निर्देशों का उचित रूप से पालन नहीं किया। स्थानीय पुलिस को गिरफ्तारी की सूचना नहीं दी और न ही अभिषेक मिश्रा के परिजनों को गिरफ्तारी की सूचना दी, जिससे अपहरण की आशंका उत्‍पन्‍न हुई।

गृह विभाग के उप सचिव ने दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर को भेजे गये पत्र में लिखा है कि दिल्‍ली पुलिस द्वारा की गई इस नियम विरूद्ध कार्यवाही की आवश्‍यक जाँच की जाये। साथ ही नियम विरूद्ध कार्यवाही करने के लिये जिम्‍मेदार पुलिस अधिकारी के विरूद्ध यथोचित कार्यवाही की जाकर मध्‍यप्रदेश शासन को अवगत करवाया जाये।