तीसरी आंख की नजर में राजधानी, डीआईजी ने किया ‘Bhopal EYE’ एप लांच

भोपाल। भोपाल आईएप का शुभारंभ पुलिस कंट्रोल रूम में शुक्रवार सुबह डीआईजी भोपाल इरशाद वली ने किया। डीआईजी ने बताया इस एप का मकसद अपराधियों की सतत निगरानी, घटित अपराधों में संलिप्त अपराधियों के फुटेज के माध्यम से पहचान करना, अपराधियों में भय का वातावरण उत्पन्न करना, आम नागरिकों में सुरक्षा का भाव जागृत करना है। यह सिस्टम आमजन के सहयोग से काम करेगा।

दरअसल इस एप की मदद से गली,मोहल्लो, कवर्ड कॉलोनियों तथा धार्मिक स्थलों और पब्लिक प्लैसों में लोगों ने अपनी निजी सुरक्षा के लिए जो सीसीटीवी कैमरे लगा रखे हैं, उन कैमरों को आईपी एड्रेस की मदद से पुलिस कंट्रोल रूम में कनेक्ट कर सकेगें। जिससे कोई भी घटना घटित होने पर कंट्रोल रूम में ही बैठकर उक्त घटना स्थल के फुटेच आस पास लगे सीसीटीवी कैमरों की मदद से खंगाले जा सकेंगे। इसके लिए हाईटैक कैमरे होना अनिवार्य है। जिसका आईपी एड्रेस भोपाल आई एप पर शेयर करना है और आप अपने घर के बाहर लगे कैमरों को सीधे कंट्रोल रूम में कनेक्ट करा सकते हैं। इससे पुलिस गली-गली तक और बहतर तरीके से निगरानी कर सकती है। उल्लेखनीय है कि डीआईजी बीते तीन महीने से इसके लिए लगातार व्यापारियों, कालोनी समितियों,धार्मिक स्थल के मेंबरों आदि से मीटिंग कर अपने-अपने क्षेत्रों को अच्छी क्वालिटी के सीसीटीवी कैमरों से लैस करने की अपील कर रहे थे।