EVM हैकिंग विवाद: सैयद शुजा के खिलाफ FIR, कैलाश बोले- ‘सिब्बल पर भी हो मामला दर्ज’

-EVM-hacking-controversy--FIR-against-Syed-Shuja

भोपाल| एक अमेरिकी साइबर एक्सपर्ट सैयद सुजा द्वारा ईवीएम हैकिंग का दावा करने के मामले में चुनाव आयोग के निर्देश पर दिल्ली पुलिस ने साइबर विशेषज्ञ सैयद शुजा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है| सुजा ने दावा किया है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में धांधली हुई थी और ईवीएम को हैक किया जा सकता है| इस दावे के बाद देश भर में ईवीएम को लेकर बहस तेज हो गई| इस बीच चुनाव आयोग ने दिल्ली पुलिस को इस बारे में एक चिट्ठी लिखी है, जिसमें कहा गया है कि सैयद शुजा ने आईपीसी की धारा 505 (1) का कथित तौर पर उल्लंघन किया है. यह धारा दहशत पैदा करने वाले अफवाह फैलाने से संबंधित है| साथ ही आयोग ने पुलिस से कहा कि ईवीएम हैक का दावा करने वाले साइबर एक्सपर्ट सैयद शुजा के बयान की भी जांच होनी चाहिए| पूरे मामले में बीजेपी ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल की भूमिका पर भी सवाल उठाए हैं| बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव ने कहा है कि आशीष रे और काँग्रेस नेता कपिल सिब्बल के खिलाफ भी मामला दर्ज होना चाहिए| 

ईवीएम में गड़बड़ी के दावे को भाजपा ने सिरे से खारिज करते हुए कांग्रेस पर करारा वार किया है। बीजेपी ने आरोप लगाया कि लंदन में आयोजित हैकथॉन को कांग्रेस समर्पित लोगों ने आयोजित किया था और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल उसकी मॉनिटरिंग के लिए वहां गए थे। बीजेपी ने इसे देश को बदनाम करने की साजिश करार दिया। भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कांग्रेस पर निशाना साधा है| उन्होंने ट्वीट कर लिखा है “निर्वाचन आयोग ने EVM हैक मामले में हैकर शैयद सुजा के विरुद्ध अफ़वाह फ़ैलाने का मामला दर्ज करने का आदेश दिया है! आशीष रे और काँग्रेस नेता कपिल सिब्बल के खिलाफ भी मामला दर्ज होना चाहिए ! क्योंकि, कपिल सिब्बल वहाँ न होते तो मीडिया में इतनी चर्चा न होती!संकेत यही है कि लंदन में यह कार्यक्रम काँग्रेस प्रायोजित था! “|

इससे पहले दिल्ली में बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस पर आरोप लगाया कि इस कार्यक्रम को आयोजित करने वाले आशीष रे एक समर्पित कांग्रेसी हैं। उन्होंने कहा, पूरा आयोजन कांग्रेस द्वारा प्रायोजित था। इसका आयोजन कांग्रेस के करीबी और उनके लिए प्रचार करने वाले लोगों ने किया था। इसमें कपिल सिब्बल की मौजूदगी पर सवाल उठाये जा रहे हैं| हालांकि, कपिल सिब्बल ने बीजेपी के इन आरोपों को सिरे से खारिज किया है. कांग्रेस नेता ने मंगलवार को न्यूज़ एजेंसी ANI के जरिये खुद पर लगे आरोपों पर सफाई दी| सिब्बल ने कहा, ‘मैं निजी तौर पर उस प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद था| प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित करने वाले आशीष रे ने मुझे खुद आमंत्रित किया था|

हैकर का यह है दावा 

स्काईप के जरिये लंदन में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए इस शख्स ने दावा किया कि 2014 में वह भारत से पलायन कर गया था क्योंकि अपनी टीम के कुछ सदस्यों के मारे जाने की घटना के बाद वह डरा हुआ था।  हैकर ने यह भी कहा कि भाजपा ने राजस्‍थान, छत्‍तीसगढ़ और मध्य प्रदेश विधानसभा चुनावों में ईवीएम हैक करने की कोशिश की थी। लेकिन उसकी टीम ने ट्रांसमिशन हैक करने की भाजपा की कोशिश को विफल कर दिया। इसका नतीजा है कि कांग्रेस चुनाव जीत गई। अन्यथा इस बार भी भाजपा ही इन तीनों राज्यों में चुनाव जीतती।  उसने कहा कि दूरसंचार कंपनी रिलायंस जिओ कम फ्रीक्वेंसी वाले सिग्नल के जरिए हैकिंग में भाजपा की मदद करती है। हालांकि, अपने दावे के समर्थन में उसने कोई सबूत नहीं दिया। यहां यह भी बताते चलें कि 2014 के चुनाव हैक होने का दावा किया गया, लेकिन तब रिलायंस जिओ का गठन नहीं हुआ था। इस कंपनी को पांच सितंबर, 2016 को लांच किया गया था।