शहीद को नमन : अंतिम यात्रा में भी देश का ध्यान

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह की पार्थिव देह दोपहर 2.30 पर सेना के विमान से गुरुवार को भोपाल आएगी। एयरपोर्ट रोड स्टेशन सिटी कॉलोनी जहां उनके पिता रहते थे, वहां उन्हें श्रद्धांजलि दी जाएगी।

भोपाल डेस्क रिपोर्ट। सीडीएस बिपिन रावत के साथ चॉपर हादसे का शिकार हुए ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का अंतिम संस्कार भोपाल में होगा। पहले अंतिम संस्कार का स्थान भोपाल के भदभदा घाट रखा गया था। लेकिन शहीद के पिता ने आम जनता की परेशानी को ध्यान में रखते हुए बैरागढ़ में अंतिम संस्कार कराने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़ें…MP Panchayat Election : पंचायत चुनाव पर आई बड़ी अपडेट, कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला

‘देश के लिए जिए और देश के काम आए और इतना ही नहीं, जब अंतिम यात्रा निकले तो भी जहन में देश ही रहे।’ शायद इसी भाव के कारण शहीद लोगों के दिलों में पूजे जाते हैं। 8 दिसंबर को सीडीएस बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर क्रैश हादसे में बचे एकमात्र व्यक्ति ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का लंबे इलाज के बाद बुधवार को निधन हो गया। शहीद के पिता भोपाल में रहते हैं और उनका अंतिम संस्कार भी भोपाल में कराने का निश्चय हुआ। पहले प्रशासन ने भदभदा विश्राम स्थल पर अंतिम संस्कार की व्यवस्थाएं करने की बात कही थी लेकिन जब यह बात शहीद के पिता को पता चली तो उन्होंने कहा कि भदभदा घाट पर अगर अंतिम संस्कार होता है तो वहां ट्रैफिक जाम होगा और भी नहीं चाहते कि बेटे की अंतिम यात्रा की वजह से लोग परेशान हो। इसलिए अब यह निश्चित किया गया है कि अंतिम संस्कार बैरागढ़ में शुक्रवार सुबह 11बजे होगा।

यह भी पढ़ें…UGC का बड़ा फैसला, छात्राओं को दी बड़ी राहत, नोटिस जारी

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह की पार्थिव देह दोपहर 2.30 पर सेना के विमान से गुरुवार को भोपाल आएगी। एयरपोर्ट रोड स्टेशन सिटी कॉलोनी जहां उनके पिता रहते थे, वहां उन्हें श्रद्धांजलि दी जाएगी। अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए शहीद के परिजन देवरिया से भोपाल पहुंच रहे हैं। शहीद के पिता रिटायर्ड कर्नल के पी सिंह और मां उमा सिंह सन सिटी कॉलोनी,भोपाल में रहते हैं और वरुण सिंह के छोटे भाई तनुज नौ सेना में लेफ्टिनेंट कमांडर है और उनकी पोस्टिंग मुंबई में है। वरुण सिंह अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ तमिलनाडु के वेलिंगटन में रहते थे।