MP : न दिन देखा न रात, शिवराज ने फिर निभाई संवेदनशील जिम्मेदारी-डॉ. वाजपेई

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। धार के कारम नदी पर बने डैम से लीकेज की घटना के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बयान को लेकर होने भाजपा ने पलटवार किया है, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता डॉ हितेश वाजपेई ने कहा है कि कारम  डेम से होने वाले भयानक काल को जिस प्रकार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में सेना, NDRF, SDRF स्थानीय प्रशासन रोक रहा है, दिन रात सब लगे हैं वो वाकई प्रशंसा के हकदार हैं। हां यह एक “मानव निर्मित घटना” हुई जिसकी जिम्मेदारी हमारे वज्र से कठोर मुख्यमंत्री तय भी करेंगे लेकिन 24/7 कंट्रोल रूम से अनअथक मॉनिटरिंग कर इस कठिन वक्त पर जो आपने संवेदनशील जिम्मेदारी निभाई है उसे भी हम कभी न भूल पाएंगे। गौरतलब है कि यह मामला सामने आने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर भ्रष्टाचार व घटिया निर्माण कार्य के आरोप लगाए थे।

यह भी पढ़ें… धार कारम नदी डेम लीकेज मामला : CM शिवराज की अपील, यह वक़्त राजनीति का नहीं, सहयोग करे

भाजपा प्रवक्ता डॉ वाजपेई ने ट्वीट किया कि काश कांग्रेस इस पर फूहड़ राजनैतिक रोटियां सेकने की बजाय उन 40 गांवों मे लोगो की मदद के लिए शिविरों मे आगे आती तो उनका भी एक मानवीय चेहरा सामने आता कि कांग्रेस विपदा मे मदद करती है परंतु दुखद है कि एसा नहीं हुआ ! आज भी वक्त है कमलनाथ जी यदि आपका हेलीकॉप्टर राहत सामग्री लेकर, तिरंगा लगाकर सेना के उन जवानो का हौसला बढ़ाने कारव डैम पहुँचेगा तो सच्ची देशभक्ति दिखेगी न कि कोरी “राजनैतिक अवसरवादिता”! विपदा मे मदद कीजिए, राजनीति करने के लिए वक्त है।

कमलनाथ ने अपने ट्वीट में लगाए थे यह आरोप 

मध्यप्रदेश के धार ज़िले में कारम नदी पर नवनिर्मित कोठिदा-भारुडपूरा डैम में लिकेज की ख़बर बेहद चिंताजनक।
304 करोड़ की इस योजना में शुरू से स्थानीय ग्रामीणजनो व जनप्रतिनिधियो द्वारा भ्रष्टाचार व घटिया निर्माण कार्य की शिकायत दर्ज करवायी जा रही थी लेकिन शिकायतों की अनदेखी की गयी , जिसके परिणाम स्वरूप पहली बारिश में ही यह लिकेज की घटना सामने आयी है। आदिवासी क्षेत्रों में चले रहे विभिन्न निर्माण कार्यों में भ्रष्टाचार की शिकायतें निरंतर सामने आ रही है, मैं सरकार से माँग करता हूँ कि डैम में लिकेज को देखते हुए सरकार सुरक्षा के तत्काल आवश्यक सभी कदम उठाये ताकि किसी भी तरह के नुक़सान व जनहानि को रोका जा सके। आसपास के गाँवो में विशेष सतर्कता बरतने व उन्हें सुरक्षित स्थानो पर पहुँचाने की तैयारी भी की जावे। साथ ही इस नवनिर्मित डैम में भ्रष्टाचार व घटिया निर्माण की शिकायतों को देखते विशेषज्ञों का एक जाँच दल तत्काल गठित करने का निर्णय भी लिया जावे जो इस निर्माण कार्य की जाँच करे। साथ ही इसके दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो।