म.प्र. राज्य के नौगांव शहर में टूटा गर्मी का कहर, बना दुनिया का सातवा सबसे गर्म शहर

मध्य प्रदेश में अत्यधिक गर्मी को देखते हुए कई जगह ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है, लेकिन राहत की बात बताते हुए मौसम विभाग ने 15 जून के बाद से जोरदार बारिश का अनुमान लगाया गया है।

Jaipur: Women sip sugarcane juice to beat the heat in Jaipur, on May 27, 2017. (Photo: Ravi Shankar Vyas/IANS)

भोपाल डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में अत्यधिक गर्मी को देखते हुए कई जगह ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है, लेकिन राहत की बात बताते हुए मौसम विभाग ने 15 जून के बाद से जोरदार बारिश का अनुमान लगाया गया है। भारत में अधिकांश बारिश दक्षिण पश्चिम मानसून से होती है जो भारत के केरल राज्य से शुरू होता है, मौसम विभाग के मुताबिक इस बार मानसून केरल में 27 मई से 3 जून तक आ सकता है।

यह भी पढ़ें – कार लेने का बना रहे मन, तो बहुत ही शानदार मौका है, महिंद्रा के टॉप कार्स पर मिल रहा है भारी डिस्काउंट

मौसम विभाग के वैज्ञानिक पी के साहा का कहना है कि मध्यप्रदेश में इस बार मानसून जून के दूसरे हफ्ते के शुरुआत में आ सकता है। मध्यप्रदेश में कई जगह 15 मई से बूंदा बांदी होने की संभावना जताई गई है। मौसम वैज्ञानिको ने संभावना जताई है की अब तापमान और ज्यादा नही बढ़ेगा। Mp में कई जगह दिन में बादल छाए रहेंगे कुछ जगह हल्की बूंदा बांदी भी हो सकती है जिससे लोगो को गर्मी से कुछ राहत मिल सकती है।

यह भी पढ़ें – कोतवाली पुलिस ने फायरिंग करने वाले 10 हज़ार के इनामी आरोपी को 24 घंटे में किया गिरफ्तार

आज इन जगहों पर जारी है लू अलर्ट
सागर, छतरपुर, अशोकनगर, भोपाल, उज्जैन, शिवपुरी, दतिया, ग्वालियर, निवाड़ी, टीकमगढ़, आगर, राजगढ़, खंडवा, भिंड, मुरैना, नीमच, मंदसौर में लू की गर्म लहर चल सकती है। वहीँ बात करें तो नौगांव में गर्मी का रिकार्ड टूट गया है। मौसम जानकार ए. के. शुक्ला के अनुसार इस बार नौगांव दुनिया का 7 वा सबसे गर्म स्थान रहा, यहाँ अधिकतम तापमान 48 डिग्री तक पहुंचा।

यह भी पढ़ें – Mandi bhav: 14 मई 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

इसके अलावा भोपाल में तापमान 45.1 डिग्री दर्ज किया गया है। विगत 15 से 16 वर्षो में यह पहली बार है जब मई का शुरुआती हफ्ता बहुत गर्म रहा है। Mp की राजधानी भोपाल और भी 12 जिलों में लू ने अपना असर दिखाया है। इसके कारण लोगो को अच्छा ख़ासा परेशानी का का सामना करना पड़ रहा है।