Exam 2021: उम्मीदवारों को बड़ी राहत, अब 1 अप्रैल तक कर सकते है आवेदन

यह एक एप्टिट्यूड टेस्ट है जो BArch कोर्सेज में प्रवेश के लिए साल में दो बार आयोजित किया जाता है। 

ICAI

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने आर्किटेक्चर शिक्षण संस्थानों में प्रवेश के लिए उम्मीदवारों को बड़ी राहत दी है। नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट इन आर्किटेक्चर (NATA Exam 2021) के लिए आवेदन फार्म भरने की अंतिम तारीख आगे बढ़ा दी गई है। अब उम्मीदवार 1 अप्रैल 2021 तक आवेदन कर सकते है। NATA Exam 2021 की अधिक जानकारी के लिए इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट nata.in पर विजिट कर सकते हैं।

यह भी पढ़े.. Bribe: लोकायुक्त के जाल में फंसा नपा का लिपिक, रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार

दरअसल,  NATA 2021 के लिए पहले 28 मार्च आखरी तारीख रखी गई थी, लेकिन कोरोना, संडे टोटल लॉकडाउन और 29 मार्च होली के चलते तारीख को 1 अप्रैल किया गया है।इसका पहला टेस्ट 10 अप्रैल और दूसरा 12 जून 2021 को आयोजित किया जाएगा।पहले चरण के लिए 6 अप्रैल को प्रवेश पत्र जारी किया जाएगा और परिणाम 14 अप्रैल को जारी होगा। काउंसिल की ओर से इस साल NATA Exam 2021 दो बार आयोजित किया जाएगा।

जिन कैंडिडेट्स ने NATA Exam 2021 के लिए रजिस्ट्रेशन किया है वे कैंडिडेट्स 12वीं पास हो, कैंडिडेट्स ने 12वीं में Physics, Chemistry और Mathematics पास किया हो या फिर 10+ 3 मैथ्स के साथ डिप्लोमा हो।रजिस्ट्रेशन के समय प्रति टेस्ट 2000 रुपये (आरक्षित एवं दिव्यांग श्रेणी के आवेदकों को 1500 रुपये) परीक्षा शुल्क का भुगतान ऑनलाइन माध्यम से करना होगा। यदि आप दोनों टेस्ट के लिए आवेदन कर रहे हैं, तो आपको 4000 रुपये (आरक्षित एवं दिव्यांग श्रेणी के आवेदकों को 3000 रुपये) परीक्षा शुल्क देना होगा।

यह भी पढ़े.. MPPSC: लॉकडाउन के बीच 11 अप्रैल को होगी प्रारंभिक परीक्षा, 67 केंद्र बनाए गए

बता दें कि नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट इन आर्किटेक्चर राष्ट्रीय स्तर की अंडरग्रैजुएट श्रेणी की परीक्षा है। यह एक एप्टिट्यूड टेस्ट है जो BArch कोर्सेज में प्रवेश के लिए साल में दो बार आयोजित किया जाता है।  नाटा परीक्षा का मोड ऑनलाइन रहता है। इसकी परीक्षा अवधि तीन घंटे की होती है। नाटा परीक्षा का स्कोर एक वर्ष के लिए वैध रहता है।इस टेस्ट में उम्मीदवारों की योग्यता का आकलन डायग्रामेटिक रीजनिंग, न्यूमेरिकल रीजनिंग, इंडक्टिव रिजनिंग, सिचुएशनल जजमेंट, एब्सट्रैक्ट रीजनिंग आदि तकनीकों का उपयोग करके किया जाएगा।