National Youth Day : स्वामी विवेकानंद जयंती पर सीएम डॉ मोहन यादव सामूहिक सूर्य नमस्कार कार्यक्रम में होंगे शामिल, भोपाल में करेंगे योग

Atul Saxena
Published on -
Surya Namaskar

National Youth Day, Swami Vivekananda Jayanti : युवाओं के आदर्श स्वामी विवेकानंद की जयंती देश में हर साल राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाई जाती है, इस दिन सामूहिक सूर्य नमस्कार का भी आयोजन किया जाता है, मध्य प्रदेश में इस साल भी हर साल की तरह ये कार्यक्रम होंगे। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव भोपाल में विद्यार्थियों के साथ योग करेंगे।

सीएम डॉ मोहन यादव भोपाल में करेंगे योग   

स्वामी विवेकानंद जयंती के अवसर पर राष्ट्रीय युवा दिवस 12 जनवरी 2024 को प्रतिवर्ष की भाँति इस वर्ष भी प्रदेश के सभी स्कूलों में सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन होगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव भोपाल के सुभाष उत्कृष्ट विद्यालय और स्कूल शिक्षा मंत्री उदय प्रताप सिंह नरसिंहपुर में विद्यार्थियों के साथ योग करेंगे।

रेडियो प्रसारण के संकेतों पर स्कूलों में होगा सामूहिक सूर्य नमस्कार 

निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक युवा दिवस के अवसर पर प्रदेश की समस्त शिक्षण संस्थाओं में प्रातः 9 से प्रातः 10:30 बजे तक आकाशवाणी से प्रसारित होने वाले कार्यक्रम में राष्ट्रगीत वंदे मातरम, स्वामी विवेकानन्द जी के रिकॉर्डेड ऑडियो, मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव के संदेश का प्रसारण होगा। इसके बाद रेडियो प्रसारण में दिए गए संकेतों के अनुसार सामूहिक सूर्य नमस्कार एवं प्राणायाम कार्यक्रम सम्पन्न होगा। कार्यक्रम आकाशवाणी के प्रदेश के सभी प्रसारण केन्द्रों से एक साथ प्रसारित किया जाएगा।

पूरे प्रदेश में एक संकेत पर एक साथ सूर्य नमस्कार करने के निर्देश 

स्कूल शिक्षा विभाग के निर्देशों के अनुसार सामूहिक सूर्य नमस्कार का आयोजन सभी शिक्षण संस्थाओं में एक साथ एक संकेत पर किया जाएगा। जि़लों में आयोजित होने वाले सामूहिक सूर्य नमस्कार के आयोजन में स्थानीय जन-प्रतिनिधिगण, विभिन्न शिक्षण संस्थाओं, समितियों एवं गणमान्य नागरिक भी शामिल होंगे।

शिक्षा विभाग का स्पष्ट आदेश, कार्यक्रम में स्टूडेंट्स स्वेच्छा से होंगे शामिल 

शिक्षा विभाग ने स्पष्ट किया है कि सामूहिक सूर्य नमस्कार के इस आयोजन में कक्षा 6वी से 12वी तक के छात्र-छात्राएँ स्वैच्छिक रूप से शामिल होंगे। प्राथमिक शाला में कक्षा 1 से कक्षा 5 तक के बच्चे सूर्य नमस्कार करने में शामिल नहीं होंगे, लेकिन वे दर्शक के रूप में उपस्थित रह सकेंगे।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News