पीएम मोदी की इस महत्वपूर्ण योजना को ठेंगा दिखा रहे भाजपा सांसद

भोपाल। नरेंद्र मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल में आदर्श ग्राम योजना के तहत अच्छा काम कर चुके मध्य प्रदेश के सांसद इस बार गांव गोद लेकर उन्हें आदर्श बनाने में रुचि नहीं ले रहे हैं। लोकसभा के चुनाव हुए आठ महीने हो गए हैं, योजना के तहत एक गांव का चयन कर सालभर में वहां आदर्श गांव की मूलभूत सुविधाएं जुटाना हैं। प्रदेश में बीजेपी के 28 सांसद हैं। लेकिन इन आठ महीने में महज चार सांसद आदर्श बनाने के लिए गांवों का चयन कर पाए हैं। वहीं, राज्यसभा के 11 सांसदों में से महज एक ने इस साल नए गांव को गोद लिया है। खास बात यह है कि पिछली सरकार के कार्यकाल में सांसदों ने पांच साल में कई गांव गोद लेकर उन्हें आदर्श बनाने का प्रयास किया था। लेकिन दोबारा सत्ता में आते ही मोदी के इन सांसदों की गांवों को आदर्श बनाने में रुचि नहीं दिख रही है।

28 में से 4 सांसदों ने गांवों को लिया गोद

– प्रदेश में बीजेपी के 28 सांसद हैं। इनको सांसद बने आठ महीने का समय हो चुका है। लेकिन आठ महीने में 28 में से आठ सांसद भी आदर्श ग्राम के लिए गांवों का चयन नहीं कर सके।

– सांसद नरेंद्र सिंह तोमर, फग्गनसिंह कुलस्ते, जीएस डामोर और राकेश सिंह ने आदर्श ग्राम बनाने के लिए गांवों का चयन किया है।

– केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मुरैना जिले के पीपरसेवा गांव का चयन किया है… सांसद राकेश सिंह ने जबलपुर के घाना ग्राम पंचायत का चयन किया है… फग्गन सिंह कुलस्ते ने नरसिंहपुर के बरहटा ग्रांम पंचायत को गोद लिया है… जीएस डामोर ने रतलाम के सैलाना ब्लाॅक के सरमन गांव का चयन किया है।

आदर्श ग्राम के तहत होते हैं ये काम

– आदर्श ग्राम योजना के तहत इंदिरा आवास योजना, मनरेगा के साथ सांसदों को मिलने वाले विकास फंड के काम होते हैं… ग्राम पंचायत भी इस योजना के तहत अपने फंड का उपयोग कर सकती है… कार्र्पाेरेट सोशल रिस्पांसब्लिटी के तहत कंपनियों से भी आदर्श ग्राम योजना के तहत काम कराए जा सकते हैं… इस राशि से गांव में गोबर गैस सुविधा के लिए सार्वजनिक गौबर गैस प्लांट, किसानों को ड्रिप इरिगेशन की सुविाा… गर्भवति महिलाओं के लिए अनिवार्य रूप से पोषण-आहार की व्यवस्था… शिक्षा के लिए जागरूकता… पंचायत भवन, धार्मिक स्थल, चैपालों का विकास… मिड-डे-मिल की बेहतर व्यवस्था…

वहीं बता दें कि मध्य प्रदेश से राज्यसभा सांसद केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद प्रधान आदर्श गांवों को लेकर सबसे आगे निकल गए हैं… धर्मेंद्र प्रधान अब तक आदर्श ग्राम बनाने के लिए तीन गांवों का चयन कर चुके हैं… उन्होंने बैतूल जिले में कड़ाही, नरसिंहपुर जिले के गाडरवारा का पनागर और रायसेन जिले के सिलवानी के नयापुरा गांव का चयन किया है…