लोकसभा चुनाव: सिंधिया से आगे निकली प्रियदर्शनी, 34 दिन में कर दी 105 चुनावी सभाएं

priydarshni-more-active-in-Lok-Sabha-election-compare-than-scindia

भोपाल।

लोकसभा चुनाव अपने अंतिम चरण में पहुंच चुका है। 12  मई को कई हाईप्रोफाइल सीटों पर मध्यप्रदेश में तीसरे चरण के चुनाव होना है। इसके लिए राजनैतिक दल पूरी ताकत झोंके हुए है।गुना-शिवपुरी से इस बार फिर कांग्रेस ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को उम्मीदवार बनाया है।शुरुआत में यूपी की जिम्मेदारी मिलने के बाद वे ज्यादा समय एमपी को नही दे रही, लेकिन अब तबाड़तोड़ सभाएं और रैलियां कर रहे है, हालांकि उनकी जगह पत्नी प्रियदर्शनी कई महिनों से मोर्चा संभाले हुए और सभाएं कर लोगों से वोट अपील कर रही है।खास बात यह है कि अप्रैल से गुना-शिवपुरी सीट पर प्रचार कर रहीं प्रियदर्शिनी अब तक आठों विधानसभा सीटों पर 105 नुक्कड़ सभाएं कर चुकी हैं, जबकि सिंधिया का आंकड़ा सिर्फ 97 पर पहुंचा है।

दरअसल, इस सीट से भले ही सिंधिया चुनाव लड़ रहे है लेकिन प्रियदर्शनी ज्यादा मेहनत किए हुए है। सीट पर पहली बार ऐसा देखा जा रहा है कि सिंधिया घराने का कोई व्यक्ति (प्रत्याशी के अलावा) इतनी मेहनत कर रहा है।हालांकि प्रियदर्शनी कई मौकों पर सिंधिया का साथ देते हुए नजर आई है।खास बात ये है कि प्रियदर्शनी ने इस बार सिंधिया से ज्यादा सभाएं कर अपने आप में एक मिसाल कायम कर दी है। पिछले 34 दिनों  में प्रियदर्शिनी ने  शिवपुरी, कोलारस, पिछोर, गुना, बमोरी, चंदेरी, मुंगावली और अशोकनगर विस सीट तकरीबन 105  सभाएं की हैं। जबकि ज्योतिरादित्य 97  सभाएं ही कर पाए है।

हालांकि सिंधिया महज 22 दिन ही दौरे पर रह पाए, क्योंकि उनके पास उप्र का भी प्रभार है। यानी ज्योतिरादित्य के मुकाबले उनकी पत्नी 12 दिन ज्यादा क्षेत्र में रहीं। प्रियदर्शिनी ने तीनों जिलों की आठों विस में 105 नुक्कड़ सभाएं, कीं, जबकि उनके पति की नुक्कड़ सभा और आमसभा का आंकड़ा सौ तक नहीं (नुक्कड़ और आमसभा सहित 97) पहुंचा है। हालांकि प्रियदर्शिनी ने अप्रैल में  दौरा शुरू किया था, तब वे खुद को महिलाओं से संवाद करने में भी असहज महसूस कर रही थीं, लेकिन अब फर्राटेदार भाषण दे रही हैं।

प्रियदर्शनी की सभाओं के बीच उनके कई अलग अलग अंदाज भी देखने को मिले। कभी वे बच्चों के साथ बैंडमिंटन या बाॉलीवाल खेलते हुए नजर आई तो कभी भरे मंच पर सिंधिया से प्रेम का इजहार करते हुए तो कभी गांव की बुजुर्ग महिलाओं को डांस स्टेप्स सिखाते हुए।वही आचार संहिता लगने के बाद ज्योतिरादित्य 17 मार्च से क्षेत्र के दौरे पर रहे।हालांकि कई अंदाज सिंधिया के भी देखने को मिले, कभी वे मिमिक्री करते हुए नजर आए तो कभी वे बच्चों के साथ कैरम खेलते हुए तो कभी कांग्रेस नेता की बाइक पर सवार होते हुए।