मजदूरों के बच्चों को शिवराज मामा देने जा रहे तोहफ़ा

भोपाल।शरद व्यास।

लॉकडाउन(lockdown) में दूसरे राज्यों में रह रहे मध्य प्रदेश के मजदूर अपने घर लौट आए हैं। एक ओर मजदूरों को सरकार ने काम देकर उनकी जीविका शुरू कर दी है अब स्कूल शिक्षा विभाग (education)दूसरे प्रदेश से आए मजदूरों के बच्चों को स्कूल भेजने की तैयारी की है। प्रदेश में आए ऐसे 57 हजार बच्चों को विभाग ने चिन्हित किया गया है। इसमें भोपाल(bhopal) जिले के 3795 बच्चे हैं, जिन्हें इसी सत्र से सरकारी स्कूलों में दाखिला कराने की योजना है।

सरकार के द्वारा लिए गए इस निर्णय में पहली से आठवीं कक्षा में छात्रों को एडमिशन दिया जाएगा.. राज्य शिक्षा केंद्र के द्वारा चिन्हित बच्चो में जो 5 से 14 वर्ष के हैं उन्हें जिन्हें पहली से आठवीं कक्षा में दाखिला मिलेगा।राज्य शिक्षा केंद्र ने पाठ्य पुस्तक निगम को सत्र 2020-21 में कक्षा 3 से 5 एवं कक्षा 6 से 8 के बच्चों के लिए दक्षता उन्नयन अभ्यास पुस्तिका की छपाई और वितरण के लिए भी निर्देशित किया है।

किस जिले में कितने बच्चे

भोपाल – 3795
इंदौर- 8507
उज्जैन- 2637
खंडवा- 6479
जबलपुर- 4293
ग्वालियर- 11,058
सागर- 14,220
रीवा- 6011

इस योजना में हर जिले में एक या दो प्रशिक्षण केंद्र खोले जाएंगे हर जिले में एक या दो आरएसटी और एनआरएसटी केंद्र खोले जाएंगे। साथ ही जो छात्र एडमिशन के लिए चिन्हित किए गए है उनको बिना टीसी के दाखिल किया जाएगा, वही इन केंद्रों में ऐसे बच्चों को पढ़ाया जाएगा जो स्कूल नहीं जाते।