भाजपा नेता ने सिंधिया को लिखा पत्र, गुलामी की इस निशानी को हटाने की अपील

भारत में हवाई जहाज के नाम से पहले VT लिखने का चलन 1929 में तब शुरू हुआ था जब भारत गुलाम था।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) के केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री (minister of civil aviation) बनने के बाद से मध्यप्रदेश (mp ) के लोगों की उम्मीदें बढ़ गई हैं और सिंधिया भी उस उम्मीद को पूरा भी कर रहे हैं। पिछले दिनों उन्होंने ग्वालियर और सहित मध्यप्रदेश के अन्य शहरों से हवाई सेवाएं शुरू कर बड़े शहरों से कनेक्टिविटी करवाई।  अब भारतीय जनता पार्टी (BJP)  के ग्वालियर महानगर अध्यक्ष ने केंद्रीय मंत्री सिंधिया का ध्यान गुलामी के उस चिन्ह की तरफ दिलाया है जो पिछले 92 साल से प्रयोग किया जा रहा है। भाजपा नेता ने केंद्रीय मंत्री से गुलामी की इस निशानी को हटाने की अपील की है।

भारतीय जनता पार्टी के ग्वालियर महानगर अध्यक्ष कमल माखीजानी ने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को पत्र लिखकर एक मांग की है। भाजपा नेता ने पत्र में सिंधिया से मांग की है कि हवाई जहाजों के विंग्स और बॉडी पर अब VT के स्थान पर IND लिखा जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें – Gwalior News : पंचायतों में बड़ा घोटाला, करोड़ों खर्च करने के बाद भी जिले से हरियाली गायब

भाजपा जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी ने कहा है कि भारत के किसी भी हवाई जहाज का नाम VT से शुरू होता है ऐसा कर हम बड़ी शान से दुनिया को बता रहे हैं कि भारत आज भी गुलामी के समय मिले दो अक्षरों VT (viceroy territory) को पिछले 92 वर्षों से ढो रहा है। उन्होंने लिखा कि 1929 में VT कोड तब मिला था जब बभारत अंग्रेजों का गुलाम था लेकिन आजादी के इतने वर्षों बाद भी भारत गुलामी के इन दो अक्षरों को बदल नहीं पाया है।

ये भी पढ़ें – गणेशोत्सव से पहले पर्यावरण मंत्री ने EPCO को दिए ये महत्वपूर्ण निर्देश

भाजपा जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी ने केंद्रीय  मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से अपील की है कि भारत के हवाई जहाजों के विंग्स और बॉडी पर लिखे जाने वाले गुलामी के प्रतीक दो अक्षर VT के हटाकर उसके स्थान पर IND लिखा जाये अउ रुसे से भारत के किसी भी हवाई जहाज का नाम शुरू हो।

भाजपा नेता ने सिंधिया को लिखा पत्र, गुलामी की इस निशानी को हटाने की अपील

ये भी पढ़ें – Vishvas Sarang का बड़ा बयान – Rahul Gandhi में ना तो अक्ल है, ना ही राजनीतिक समझ