छतरपुर: विधायक नीरज दीक्षित से पैसे मांगने वाला धर-दबोचा गया, वीडियो कॉल से करता था साइबर एक्स्टोर्शन

आरोपी ने अपने पास रखे 3 मोबाइल पेश किये जिनको चैक किया गया उसमें एक मोबाइल में अश्लील वीडियो थे जिसमें वहीं रिकार्डड वीडियो था जिसके द्वारा फरियादी को ब्लैकमेल किया गया था।

छतरपुर

छतरपुर, संजय अवस्थी। छतरपुर जिले के महाराजपुर विधानसभा से कांग्रेस विधायक नीरज दीक्षित (MLA neeraj dixit) को वीडियो कॉल (video call) के माध्यम से आपत्तिजनक वीडियो बना लेने के बाद उन्हें ब्लैकमेल (blackmail) करने वाले मुख्य सरगना को पुलिस ने दबोच लिया है। मामला दिनांक 22/05/2021 का है, इस दिन विधायक नीरज दीक्षित ने गढ़ीमलहरा थाने पहुँच कर यह शिकायत दर्ज कराई थी कि एक मोबाइल नंबर से अज्ञात महिला वीडियो कॉल के माध्यम से अश्लील वीडियो (obscene video) बनाकर ब्लैकमेल कर रही है। जिस पर थाना गढीमलहरा में 67,67a I.T. ACT , 385 IPC के तहत मामला पंजीबद्ध किया था।

यह भी पढ़ें… पीएम मोदी के कार्यकाल के 7 साल पूरे होने पर कांग्रेस का तंज, अच्छा है 24 घंटे काम नहीं करते

मामला दर्ज होने के बाद एसपी सचिन शर्मा द्वारा एसडीओपी नौगांव के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई। पुलिस टीम को साइबर से मिली जानकारी के आधार पर आरोपी की तलाश के लिए टीम जिला भरतपुर, राजस्थान पहुँची। टीम के सदस्यों द्वारा सूूझबूझ से मामले के आरोपी आदिल पिता रुकमुदीन उम्र 19 साल निवासी नक्चा का वास, थाना सीकरी तहसील नागर जिला भरतपुर(राजस्थान) को हिरासत में लेकर थाने लाया गया। थाने पर आरोपी से घटना के संबंध में पूछताछ की गई तो आरोपी आदिल निवासी नक्चा का वास ने अपना जुर्म स्वीकार किया। आरोपी ने अपने पास रखे 3 मोबाइल पेश किये जिनको चैक किया गया उसमें एक मोबाइल में अश्लील वीडियो थे जिसमें वहीं रिकार्डिड वीडियो था जिसके द्वारा फरियादी को ब्लैकमेल किया गया था।

कांग्रेस विधायक नीरज दीक्षित

छतरपुर

 

 

 

यह भी पढ़ें… Rare Notes: आपके पास भी हैं ऐसे 1 या 5 रुपए के नोट तो मिलेंगे इतने रुपए, जाने डिटेल्स

आरोपी के पास से वह मोबाइल भी बरामद किया गया जिससे फरियादी को ब्लैकमेल करने की धमकी भरा कॉल किया गया था । आरोपी द्वारा स्वीकार किया गया कि वह Facebook से लोगों की जानकारी एकत्रित करता है। Facebook पर प्राप्त नंबर पर लोगो को वॉट्सएप वीडियो कॉल करके अपने पास रखे रिकार्डिड एडल्ट वीडियों के द्वारा लड़की बनकर स्क्रीन रिकॉर्डर की मदद से वीडियो रिकॉर्ड कर लेता है फिर वीडियो वायरल करने की धमकी देकर लोगों से पैसे की वसूली करता है। आरोपी द्वारा बताया गया कि इसे गांव के ही रमजान नाम के व्यक्ति ने सिखाया था। जो एक पूरी गिरोह की तरह काम करता है जहां कुछ लोग दूसरे राज्यो मुख्यतः ओडिशा से फर्जी सिम और खाते बनवाकर इन्हें देते है और वसूली का 20% इनसे लेते है। आरोपी द्वारा इसी तरह अन्य कई लोगों के अश्लील वीडियो रिकॉर्ड कर पैसे वसूलने के लिये ब्लैकमेल किया जा चुका है।

अनेक राज्य के ये व्यक्ति अभी तक हुए ब्लैकमेल

1. राज पिता श्याम शर्मा निवासी उ.प्र से 66000 रुपये,
2.प्रेमकुमार पिता रवि सिंह निवासी पंजाब से 55000 रुपये,
3. अरुण पिता रामप्रकाश उपाध्याय निवासी उ.प्र से 64000 रुपये,
4. अंकित पिता सुरेश वर्मा निवासी उ.प्र. से 45000 रुपए
5.पवन पिता हीराचंद कुमार निवासी गुजरात 42000 रुपये,
6.मुकेश पिता प्रेमस्वरूप अहिरवार निवासी म.प्र से 75000 रुपये,
7.राकेश पिता उमेश शर्मा निवासी म.प्र से 63000 रुपये,
8.अरुण पिता हरिप्रकाश यादव निवासी उ.प्र से 39000 रुपये,
9.हरमीत पिता गोविंद सिंह निवासी पंजाब से 53000 रुपये,
10. प्रकाश पिता मुकेश पटेल निवासी म.प्र से 95000 रुपये,
11. सोनू पिता महेश राने निवासी मुबई से 1,70000 रुपये,
12.महेन्द्र पिता गणेश यादव उ.प्र से 78000 रुपये,
13.राजकिशोर पिता जुगल कुर्मी निवासी म.प्र से 56000 रुपये,
14.उमेश पिता रामकुमार भारती निवासी महाराष्ट्र से 52000 रुपये,
15. अभय पिता महावीर जड़ेजा निवासी महाराष्ट्र से 1,80000 रुपये,
16. रजत पिता हुकुमचंद गुर्जर निवासी हरियाणा से 53000 रुपये,
17. दीपक पिता हरदयाल निवासी पंजाब से 72000 रुपये,
18.आशीष पिता हरिशंकर दुबे निवासी म.प्र से 50000 रुपये,
19. राकेश पिता सतीश शर्मा निवासी इंदौर से 65000 रुपये,
20. रविन्द्र पिता बिमलेश निवासी भोपाल से 45000 रुपये,
21. हरिओंम पिता रमाशंकर राजपूत निवासी बैंगलौर से 70000 रुपये।

आरोपी द्वारा कुल 14 लाख 22 हजार रुपए ब्लैकमेल कर वसूल किए गये है। आरोपी को गिरफ्तार किया गया है जिसको कोर्ट में पेश किया जाएगा।

इस टीम का रहा सरहनीय योगदान

थाना प्रभारी थाना महाराजपुर निरीक्षक जेड.बाई. खांन, थाना प्रभारी थाना गढीमलहरा उप निरीक्षक रवि उपाध्याय, थाना प्रभारी थाना अलीपुरा उप निरीक्षक रूपनारायण पटैरिया ,साइबर सैल उप निरीक्षक कल्याण यादव, कार्य वाहक.प्रधान आरक्षक शैलेन्द्र सेंगर, आरक्षक योगेश रिछारिया,आर राममीणा, महिला आरक्षक हिमांशी, महिला आरक्षक आकांक्षा,साइबर सेल से उप निरीक्षक निशा श्रीवास्तव,कार्य.प्र. आर. किशोर रैकवार, संदीप तोमर, धर्मराज पटेल की महत्वपूर्ण भूमिका रही।