छिंदवाड़ा, विनय जोशी। मध्य प्रदेश शासन (Madhya Pradesh government) के निर्देश अनुसार गेहूं की खरीदी 25 मई तक बंद की गई है। 8 दिन से किसान नंबर लगाकर खड़े हुए थे। जहां सरकार के आदेश के बाद किसानों में गुस्सा है। जिसको लेकर किसानों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया। ऐसे में अधिकारियों ने किसानों का गेहूं तुलवाने का फैसला किया है।

यह भी पढ़ें:-उमंग सिंगार पर FIR मामला, कमलनाथ के बंगले पर आज बनेगी कांग्रेस की रणनीति

किसानों ने विरोध करते हुए बड़कुही जुन्नारदेव में मुख्य मार्ग पर बीच रास्ते में ट्रैक्टर खड़े कर जाम लगा दिया। जिसकी जानकारी मिलते ही परासिया विधायक सोहन बाल्मिक, जनपद पंचायत परासिया के पूर्व उपाध्यक्ष जमील खान, तहसीलदार परासिया कमलेश राम नीरज, थाना प्रभारी मोहन सिंह मसकोले किसानों के बीच पहुंचे। उच्च अधिकारियों से चर्चा करने के बाद यह तय हुआ कि जितने किसानों के ट्रैक्टर पूर्व आठ 9 दिन से खड़े हैं उन किसानों को चिन्हित कर उनका गेहूं तुलवाया जाए और सुरक्षित सोसाइटी में रखवाया जाए। जब 26 तारीख से पोर्टल शासन की ओर से आरंभ होगा, तब उनका बिल कटेगा। जिसके बाद किसान तैयार हुए।

बता दें कि यही स्थिति परासिया सोसाइटी की भी बनी। वहां भी विधायक सोहन वाले भी और तहसीलदार एवं पूर्व जनपद उपाध्यक्ष जमील खान ने पहुंचकर किसानों की समस्या का निराकरण करवाया।