Dabra News : सामूहिक विवाह के नाम पर ठगी के शिकार हुए वर-वधु पक्ष, मामला दर्ज

dabra police station

Dabra News : डबरा में अमर राज शिक्षा समाज कल्याण समिति संस्था द्वारा सामूहिक सम्मेलन से शादी कराने के नाम पर 1 लाख 80 हजार की ठगी का मामला सामने आया है,यह ठगी संस्था के संचालक डबरा निवासी भीमशरण गौतम और बबलू पराशर द्वारा सामुहिक सम्मेलन से शादी कराने और सामग्री देने के नाम पर की गई है। जब शादी की तारीख और स्थान पर बारात और लड़की वाले पहुंचे तो वह कोई भी सम्मेलन होता नही मिला और ना ही कोई सम्मेलन की व्यवस्था नजर आई। जिसके बाद उत्तर प्रदेश के बांधा जिले से आए लड़की के पिता राजेश नामदेव ने किराए से गार्डन किया और अपनी बेटी की शादी की। तो वही मामले की शिकायत सिटी पुलिस से भी की गई , लडकी पक्ष और लड़का पक्ष दोनो ने मिलकर सिटी थाने में पुलिस से इस मामले में कार्रवाई की मांग की है जिस पर से सिटी थाना प्रभारी के.पी.यादव ने दोनो पक्षों को भरोसा दिलाया है कि आपको जरूर न्याय मिलेगा।

यह है मामला

आपको बता दे की भिंड जिले के निवासी करन नामदेव और उत्तर प्रदेश के बांधा जिला के निवासी प्रियंका नामदेव की शादी 6 जून को होनी थी, जिसमे सम्मेलन कर्ताओं ने फर्जी तरीके से दस्तावेज संकल्प बंधन संस्थान के एकत्रित किए और 1 लाख 80 हजार रुपए सम्मेलन में शादी कराने के नाम पर वर और वधू पक्ष के परिवार जनों से ऐंठ लिए। जब वर और वधु का परिवार चिन्हित स्थान पर पहुंचा तो वहां पर किसी प्रकार की कोई व्यवस्था नही मिली तब दस्तावेजों में अंकित मोबाइल नंबर पर संपर्क किया तो मामले का खुलासा हो गया। साथ ही जब फर्जी संस्थान चलाकर सम्मेलन कराने वाले लोगो से संपर्क किया तो उन्होंने फोन तक नही उठाया इस सूचना पर संकल्प बंधन संस्था के संचालक हरेंद्र निगम भी मौके पर पहुंच गए और सभी ने एक साथ मिलकर सिटी थाना पुलिस को लिखित में शिकायत की है।

Dabra News : सामूहिक विवाह के नाम पर ठगी के शिकार हुए वर-वधु पक्ष, मामला दर्ज

 

गौर करने वाली बात यह है कि नगर की एक लड़की अंजली बंजारा को भी एक कार्यालय बनाकर सम्मेलन के नाम पर ठगी करने के लिए बैठा रखा था। अंजली बंजारा ने वर-वधू और पुलिस को बताया की 6 जोडे झांसी के है जिनकी भी शादी के लिए रजिस्ट्रेशन हुए है।

जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान

सबसे बड़ी बात यह है कि डबरा में ऐसे कई सामूहिक विवाह कराने वाली संस्थाएँ चल रही है जोकि बगैर रजिस्ट्रेशन और बगैर परमिशन के सामूहिक विवाह संपन्न कराती हैं जिनकी ना तो नगरपालिका से परमिशन ली जाती है और ना ही एसडीएम कार्यालय से लेकिन फिर भी प्रशासन इनको अनदेखा कर देता है जिसमें कई तरह का फ्रॉड लोगों के साथ हो जाता हैं। और तो और कई संस्थाएं ऐसी भी है जो कि चोरी छुपे कई नाबालिक जोड़ों की शादियां भी करा देती हैं जिनका किसी को पता ही नहीं चलता जिस पर प्रशासन कोई ठोस कदम नहीं उठा रहा।
डबरा से अरुण रजक की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News