डबरा, सलिल श्रीवास्तव। डबरा (Dabra ) में इलाज के लिए सरकारी मदद की आस में एसडीएम कार्यालय के बाहर अपनी मां के साथ पड़े गंभीर रूप से बीमार युवक को तहसीलदार (Tehsildar) और अभिभाषक ने उपचार के लिए ग्वालियर भेजकर मानवता दिखाई है। अभिभाषक के बताए जाने पर तहसीलदार श्यामू श्रीवास्तव द्वारा गंभीर रूप से बीमार अस्पताल से लौटाए गए उक्त युवक की आर्थिक मदद भी गई।

यह भी पढ़ें…नेमावर हत्याकांड के आरोपियों पर फूटा लोगों का गुस्सा, शिफ्ट करते समय जेल वाहन पर पथराव

जानकारी के अनुसार ग्राम आदमपुर निवासी 20 वर्षीय युवक श्यामलाल सिंह शाक्य पिछले कई दिनों से पथरी की बीमारी से पीड़ित चल रहा था। जिससे पीड़ित होकर गंभीर रूप बीमार हुए उक्त युवक को लेकर उसकी मां चम्पाबाई बुधबार को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुँची। जहां उपस्थित चिकित्सकों ने पथरी से पीड़ित उक्त युवक की गंभीर हालत देख उसका इलाज करने में असमर्थता व्यक्त की। और उसे इलाज के लिए ग्वालियर ले जाने की बात कही। ऐसी बात सुन आर्थिक तंगी से गुजर रही उसकी माँ बीमार बेटे को लेकर एसडीएम कार्यालय पहुँची। एसडीएम की गैर मौजूदगी में कार्यालय के बाहर मरणासन्न हालात में बेटे के साथ बैठी महिला को देख यहाँ से निकल रहे अभिभाषक महेश चंद्र जैन ने उनकी पीड़ा सुनी। इसके बाद बीमार युवक के इलाज में सरकारी मदद की मंशा को लेकर अभिभाषक जैन तहसीलदार श्यामू श्रीवास्तव से मिले। और उसकी स्थिति से अवगत कराया। जिस पर तहसीलदार श्रीवास्तव ने बीमार युवक की माँ को अपनी ओर से 4500 रुपये प्रदान किए। और अधिनसतो को आवश्यक दिशा निर्देश देकर पीड़ित युवक को तत्काल इलाज के लिए तत्काल ग्वालियर भिजवाया। बतादें कि उक्त बीमार युवक का पिता अपनी पहली पत्नि के बेटे की पत्नी के साथ कहीं रह रहा है। जिसने इलाज में कोई मदद नहीं की।

यह भी पढ़ें…Balaghat : माधुरी रिफाइनरी तेल के हमरूप तेल बेचकर ग्राहकों से कर रहे थे धोखाधड़ी, कंपनी ने की कार्रवाई