ग्वालियर में शनिवार को विशाल ड्रोन मेला का आयोजन, केंद्रीय मंत्री Scindia ने कही बड़ी बात

Dabra News : बता दें कि ड्रोन मेले में किसान, स्कूल एवं कॉलेज के छात्र छात्राओं का समूह, एवं इस क्षेत्र में शोध करने वाले शोधार्थी भी शामिल होंगे।

डबरा, सलिल श्रीवास्तव। ग्वालियर (gwalior) में शनिवार (11 दिसंबर) विशाल ड्रोन मेले (drone fair) का आयोजन किया जा रहा हैं। यह मेला केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) की पहल पर एमआईटीएस में आयोजित होगा। बता दें कि इस मेले का आयोजन भारत सरकार के नागरिक उड्डयन मंत्रालय एवं फिक्की के सहयोग से एमआईटीएस (माधव इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एण्ड साईंस) में होगा।

इस मेले के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, जिले के प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट व ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर सहित अन्य मंत्रिगण एवं सांसद सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण और वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल होंगे।

ये भी पढ़ें – MPPEB : ग्रुप 2 (सब ग्रुप 4) परीक्षा-2020 का एडमिट कार्ड जारी, यहाँ करें डाउनलोड

दरअसल, केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने कही ये बड़ी बात नई टेक्नोलॉजी (Technology) में विश्व का नेतृत्व भारत करें। जो ड्रोन टेक्नोलॉजी (Drone Technology) हैं। वह नई टेक्नोलॉजी हैं। उसके तहत पूरे देश के हर राज्य में इसे प्रोत्साहित किया जाए। नई पीढ़ी के लिए यह एक अवसर हैं। इसके लिए युवाओं को अग्रसर करें। जिससे भारत की तकनीक क्षमता (technical capability) को बढ़ाते हुए सभी विभाग ड्रोन का उपयोग कर रहे हैं। इस क्षेत्र में अपार सम्भावनाएं हैं। इस मेले से अन्य विभाग भी ड्रोन का उपयोग करने की दिशा में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें – Morena News : स्टोन कटिंग फैक्ट्री पर छापा, अवैध पत्थर जब्त, फैक्ट्री सील

बता दें कि ड्रोन मेले में किसान, स्कूल एवं कॉलेज के छात्र छात्राओं का समूह, एवं इस क्षेत्र में शोध करने वाले शोधार्थी भी शामिल होंगे। इस अवसर पर कई विभागों खनन, शिक्षा, साइंस एंड टेक्नोलॉजी, लैंड रिकॉर्ड, पुलिस, डी.आर. डी.ई, रक्षा आदि विभागों से आए सभी तरह के ड्रोन का प्रेजेंटेशन (presentation) होगा।

इस ड्रोन मेले का आयोजन खास तौर पर किसानों एवं तकनीकी छात्र एवं छात्राओं को ड्रोन का महत्त्व एवं उसकी उपयोगिता समझाने के लिए किया जा रहा है। तकनीकी क्षमताओं के विकास से समाज के सभी वर्गों को जिसमें किसान, हेल्थ सेवा, ट्रांसपोर्ट सेवाओं को और उपयोगी इफेक्टिव एवं तेज बनाया जा सकता है। MITS में इस बाबत कंट्रोल रूम भी बनाया गया हैं, जहाँ अधिक जानकारी प्राप्त की जा सकती हैं।