दमोह में मंत्री प्रहलाद पटेल का धरना, कहा-घुसपैठियों से प्यार, राष्ट्रवादियों का संहार, ये टीएमसी की सरकार है

भारतीय जनता पार्टी ने पूरे देश में धरना प्रदर्शन किया है और ममता की सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग कर रहे हैं।

दमोह, आशीष कुमार जैन। दमोह (Damoh) में पश्चिम बंगाल में भाजपा (BJP) के कार्यकर्ताओं के ऊपर हो रहे हमले, हिंसा एवं सामूहिक बलात्कार के आरोप केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति मंत्री प्रहलाद पटेल (Prahlad Patel) ने धरना प्रदर्शन के दौरान लगाएं। दरअसल पश्चिम बंगाल (West Bengal) में चुनाव के बाद टीएमसी (TMC) की सरकार द्वारा भाजपा के कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट कर हत्या की गई और उन्हें लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है और उसी को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने पूरे देश में धरना प्रदर्शन किया है और ममता की सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें…पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या के विरोध में राज्यमंत्री बृजेंद्र सिंह यादव ने मुंगावली में दिया धरना

केंद्रीय मंत्री दमोह में आयोजित धरना प्रदर्शन कार्यक्रम में शामिल हुए जहां उन्होंने धरने के दौरान कहा कि पश्चिम बंगाल में चुनाव होने के बाद वहां की सरकार के संरक्षण में एक व्यापक हिंसा शुरू हो गई है, बीच चुनाव में ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के द्वारा इस बात के संकेत दिए गए थे उन्होंने कहा था कि चुनाव परिणाम आने के बाद ये सब भीख मांगेगे अपनी सुरक्षा के लिए, लेकिन किसी के द्वारा इस पर ध्यान नहीं दिया गया। लेकिन बंगाल में चुनाव जीतते ही वर्ग विशेष के टीएमसी कार्यकर्ताओं द्वारा भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले हो रहे हैं। भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या हो रही है। महिला कार्यकर्ताओं के साथ बलात्कार हो रहे हैं। और यह एक चिंता का विषय है जिसके कारण कोरोना काल में भी बीजेपी ने देश को जगाने का कार्य किया है उन्होंने कहा कि बंगाल में घुसपैठियों से प्यार किया जा रहा है। राष्ट्र वादियों का संहार किया जा रहा है और यह टीएमसी की सरकार है। मंत्री धरने के वक्त उन्होंने कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए इस प्रदर्शन में हिस्सा लिया।