यहां पुलिस ने किया था अतिक्रमण चल गया मोहन सरकार का बुलडोजर, पढ़ें पूरी खबर

मड़ियादो में बीच बाजार बने पुलिस थाने की कई साल पहले बाउंड्री वाल बनी थी और ये वाल सड़क का काफी हिस्सा घेरे थी। इसी दीवार की आड़ लेकर यहां कई गुमठियां रख दी गई और इसे आधार बनाकर लोगो ने अपनी दुकानें मकान भी आगे कर लिए।

Atul Saxena
Published on -
Damoh News

Damoh News : एमपी में अवैध अतिक्रमण पर हो रही ताबड़तोड़ कार्यवाहियों के बीच दमोह से बड़ी खबर है जहां मोहन सरकार के बुलडोजर ने पुलिस के अतिक्रमण को भी नही बक्शा औऱ जब बुलडोजर चला तो एक तरफ से आम लोगों के साथ पुलिस के अतिक्रमण को भी धराशायी कर गया।

दरअसल दमोह जिले के मड़ियादो कस्बे में चारों तरफ फैला अतिक्रमण लोगों की परेशानी का कारण बना हुआ था, बाजार में इस अतिक्रमण की वजह से आये दिन सड़क जाम की स्थिति बनती थी और कई बार कस्बे के लोग इसे लेकर नाराजगी जाहिर कर चुके थे, आखिरकार प्रशासन ने सख्त कदम उठाने का निर्णय लिया।

पुलिस थाने ने दीवार बनाकर किया था अतिक्रमण 

लेकिन इन अतिक्रमणों में एक अतिक्रमण प्रशासन के लिए परेशानी बना था और वह था पुलिस का अतिक्रमण। मड़ियादो में बीच बाजार बने पुलिस थाने की कई साल पहले बाउंड्री वाल बनी थी और ये वाल सड़क का काफी हिस्सा घेरे थी। इसी दीवार की आड़ लेकर यहां कई गुमठियां रख दी गई और इसे आधार बनाकर लोगो ने अपनी दुकानें मकान भी आगे कर लिए।

टू व्हीलर निकलना था मुश्किल, प्रशासन ने रास्ता किया साफ़ 

धीरे धीरे बढ़ते गए अतिक्रमण के बाद आलम ये हो गया कि एक टू व्हीलर निकालना भी लोगों को मुश्किल होने लगा। शनिवार को प्रशासनिक अमले ने यहां बुलडोजर चलाया और सबसे पहले पुलिस थाने की बाउण्ड्री वाल गिराई और फिर एक एक कर पूरे इलाके को साफ कर दिया। इलाके के तहसीलदार शिवराम चढ़ार के मुताबिक यातायात को सुगम बनाने के लिए अतिक्रमण हटाया गया है और जल्दी ही यहां नाली निर्माण का काम किया जाएगा।

दमोह से दिनेश अग्रवाल की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News