दतिया कलेक्टर के अधिकारीयों को आदेश, झोला-छाप डॉक्टरों पर हो एफआईआर

जिले में आगामी 5 दिनों तक आवागमन पर पूर्णतः प्रतिबंध रहेगा और सीमा से लगे हुए सभी रास्ते, मार्ग पूर्णतः बंद किए जायेंगे। वाहानों के आवागमन को पूरी सख्ती के साथ रोका जायेगा।

दतिया, सत्येन्द्र रावत। कोरोना (Corona) के बढ़ते प्रकरणों को देखते हुए दतिया कलेक्टर (Datia Collector) संजय कुमार ने कहा कि जिले में आगामी 5 दिनों तक आवागमन पर पूर्णतः प्रतिबंध रहेगा और जिले की सीमा से लगे हुए सभी रास्ते, मार्ग पूर्णतः बंद किए जायेंगे। वाहानों के आवागमन को पूरी सख्ती के साथ रोका जायेगा। अनावश्यक घूमते लोगों को हतोसाहित करने हेतु उनके वाहनों की हवा निकालने की कार्यवाही की जाएगी ।

यह भी पढ़ें….भोपाल, इंदौर के बाद अब उज्जैन में भी बढ़ा लॉकडाउन, 30 अप्रैल तक शादियों पर भी रोक

कलेक्टर कुमार ने मंगलवार को उक्ताश्य के निर्देश जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकरणों को देखते हुए राजस्व अधिकारियों की समीक्षा बैठक में दिए। नवीन कलेक्ट्रेट कार्यालय में आयोजित बैठक में पुलिस अधीक्षक अमन सिंह राठौर, अपर कलेक्टर एके चाॅदिल, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अतेन्द्र सिंह गुर्जर सहित राजस्व अधिकारी आदि उपस्थित थे। कलेक्टर कुमार ने बैठक में जिले में बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण की समीक्षा करते हुए कहा कि आगामी 5 दिवसों तक लोगों का आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंध रखा जायेगा। इसके लिए जिले की सीमाओं पर भी बेरियर लगाए जायेंगे। जिससे किसी भी प्रकार का आवागमन न हो। उन्होंने कहा कि चिकित्सा उपचार के लिए जाने वाले व्यक्ति को छोड़कर अन्य किसी भी व्यक्ति को आवागमन की अनुमति नहीं दी जायेगी। उन्होंने निर्देश दिए कि शहरों के अंदर भी छोटे-छोटे मार्गो पर वैरीकेटिंग कराई जाए। जिससे लोग अनावश्यक अपने घरों से बाहर न निकले। जिससे कोरोना की चैन को तोड़ा जा सके। कलेक्टर ने सभी अनुविभागीय दंडाधिकारियों को निर्देश दिए कि वह सुनिश्चित करें कि उनके क्षेत्र में स्थित फीवर क्लीनिक (Fever Clinic) कोरोना मरीजों के परीक्षण के साथ-साथ उपचार की भी व्यवस्था सुनिश्चित करायें और फीवर क्लीनिकों का भी निरीक्षण करें।

यह भी पढ़ें….पीएम नरेंद्र मोदी का राज्यों से आग्रह- लॉकडाउन अंतिम विकल्प हो

फर्जी डॉक्टरों की खेर नहीं
झोला-छाप डाॅक्टर उपचार करते पाए जाते है तो उनके विरूद्ध पुलिस में एफआईआर (FIR) दर्ज कराई जाये। ऐसे मेडीकल स्टोर जो बिना पंजीयन के संचालित हो रहे हैै उनके विरूद्ध भी औषधी निरीक्षक का सहयोग लेकर कार्यवाही करें। कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए कि कोविड वार्ड में मरीजों के अतिरिक्त किसी भी अन्य व्यक्ति को प्रवेश न दिया जाए और न ही कोई व्यक्ति किसी भी प्रकार की सामग्री लेकर वार्ड में जायेगा। कलेक्टर कुमार ने कहा कि महिला एवं बाल विकास विभाग के मैदानी अमले को भी निर्देश दिए गए है कि शादी एवं समारोह पर पूरी तरह से निगरानी रखें वीडियोग्राफी भी कराई जाए। कलेक्टर ने अनुभाग वार संबंधित एसडीएमओ से इस संबंध में की जा रही तैयारियों की जानकारी ली। वही पुलिस अधीक्षक अमन सिंह राठौर ने कहा कि हमें कढ़ाई के साथ नियमों पालन कराना है। उन्होंने सभी कार्यालय प्रमुखों से कहा कि उनके अधीनस्थ अमले को परिचय पत्र आवश्यक रूप से उनके द्वारा उपलब्ध कराये जाए। जिससे पुलिस कर्मियों द्वारा मांगने पर दिखाया जा सके। जिससे कर्मचारी अनावश्यक रूप से परेशान न हो।

यह भी पढ़ें….सड़क हादसा : ट्रक और लोडिंग वाहन की भिड़ंत में एक की मौत, दो घायल