भोपाल, इंदौर के बाद अब उज्जैन में भी बढ़ा लॉकडाउन, 30 अप्रैल तक शादियों पर भी रोक

उज्जैन में भी 30 अप्रैल तक बंद बढ़ा दिया गया है। सिर्फ दूध ,आटा चक्की और जरुरी सेवा जैसे मेडिकल,अस्पताल, मीडिया जैसे संस्थान ही खुले रहेंगे।

उज्जैन, डेस्क रिपोर्ट। भोपाल, इंदौर के बाद अब उज्जैन (Ujjain) में भी लॉकडाउन (Lockdown) बढ़ा दिया गया है। दरअसल रोजाना बड़ी संख्या में संक्रमित मरीज सामने आने के बाद और लोगों की लापरवाही के चलते उज्जैन कलेक्टर (Ujjain Collector) आशीष सिंह ने टोटल लॉकडाउन को बढ़ाने का फैसला लिया गया है। बुधवार 21 अप्रैल से 30 अप्रैल तक उज्जैन शहर और जिले के ग्रामीण इलाको में पूरी तरह लॉकडाउन रहेगा। सिर्फ दवाई ,दूध ,सरकारी उचित मूल्य की दुकानों को छूट रहेगी। इसके अलावा फिलहाल किराना दुकाने भी बंद करने का निर्णय लिया गया है, हालांकि एक-दो दिन में किराना सामान को घर पर डोर-टू-डोर भिजवाने की व्यवस्था की जायेगी। लेकिन सबसे बड़ी बात ये की दो दिन बाद कई घरो में शादियां है, जंहा कही पर मेहंदी लग चुकी है तो कही सारी तैयारी होकर पत्रिकाएं बट चुकी है, ऐसे में अब सबसे बड़ा संकट उन लोगो के लिए जिन्होंने शादियों के लिए पूरी तैयारी कर ली है ।

यह भी पढ़ें….ऑक्सीजन की कमी से हांफ रहा देश, भारत सरकार को धन्यवाद: राहुल गांधी

शादी से लेकर सभी सार्वजनिक कार्यक्रम सब बंद
उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह ने कहा की जिस तरह से शहर में संक्रमण की दर बड़ रही है उसको लेकर जिले में कल से लॉकडाउन लगाने जा रहे है जो की सख्त लाकडाउन होगा। जिसमें सार्वजनिक परिवहन, किराना, सब्जी, कपडे, ज्वेलरी ,बर्तन आदि की दुकानें, सब्जी मंडिया, सभी को पूर्णतः बंद कर दिया गया है.इसके अलावा दूध,आटा चक्की ,मेडिकल अस्पताल और उद्योग धंधे को लिए समय निर्धारित कर दिया गया है जिसके चलते वह खुले रहेंगे। चक्की सुबह 7 बजे 11 बजे तक, दूध की दूकान सुबह 7 से 11 और शाम 6 से 8 बजे तक खुली रहेंगी। वही शव यात्रा में अधिकतम 10 लोग सम्मलित हो सकेंगे। हालांकि  किराना और सब्जियो  को लेकर एक-दो दिन में फैसला लिया जाएगा। जिसमे किराना और सब्जी की सिर्फ होम डिलेवरी हो सकेगी। सभी प्रकार के दो-तीन पहिया और चार पहिया वाहनों के आवागमन पर प्रतिबन्ध रहेगा। इसके अलावा उज्जैन कलेक्टर ने एक बड़ा निर्णय ये भी लिया की जिन धर्मशाला , होटल, मैरिज गार्डन ने शादी समारोह की बुकिंग हुई है वह लिए गए शुल्क को आयोजन कर्त्ता को लौटाएंगे। टीकाकरण यथावत जारी रहेगा।उद्योगों में तैयार माल और कच्चे माल का परिवहन चालु रहेगा।

 

17 अप्रैल को हुई क्राइसिस मैनेजमेंट (Crisis Management) की बैठक में उज्जैन में कोरोना कर्फ्यू 26 अप्रैल तक कर दिया गया था। मीटिंग में समस्त   जनप्रतिनिधियों और जिले के आला अधिकारियों ने मिलकर निर्णय लिया है कि शहर में महामारी के बेकाबू हालात को देखते हुए लॉकडाउन को 26 अप्रैल तक बढ़ाया जाए इसके अलावा आगामी शादियों के सीजन को देखते हुए सुबह 8:00 से 12:00 के बीच विवाह समारोह में काम आने वाली कुछ दुकानों को छूट देने का प्रस्ताव भी रखा गया, जिसमें ज्वेलरी, कपड़े, बर्तन सहित अन्य दुकानों को शामिल कर सुबह 8:00 से 12:00 के बीच खोलने की अनुमति दे दी गई थी। लेकिन आम लोगो ने इसका गलत फायदा उठाया और 19 अप्रैल को सुबह शहर में इतनी भीड़ उमड़ी की लगा किसी त्यौहार पर शहरवासी निकले हो, शहर के हर इलाके में भीड़ दिखाई दी, आज भी इसी तरह आम लोग बेखौफ शहर में घूमते हुए नजर आये। उज्जैन कलेक्टर ने ये भी कहा संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए अब सख्त लॉकडाउन जरुरी हो गया है। विवाह समारोह में दी गई वर-वधु पक्ष की और से 25 लोगों की परमिशन भी की निरस्त कर दी गयी है। अब विवाह समारोह के आयोजन भी 30 अप्रैल तक नहीं होंगे। उज्जैन जिले में संभवत विवाह वालों को मुहूर्त आगे बढ़ाने होंगे।

यह भी पढ़ें….पिता को कोरोना हुआ तो बेटे ने घर से निकाला, सड़कों पर भटकता रहा बुजुर्ग

उज्जैन में बेखौफ जनता
शहर में फैले संक्रमण और अस्पतालों के हालत को दरकिनार करते हुए आम लोग सड़को पर दिखाई दिए, ख़ास कर उज्जैन के पुराने इलाको में भारी भीड़ दिखाई दी , सिटी गेट , गोपाल मंदिर , कंठाल चौराहा , ढाबा रोड सहित कई इलाको में  शादी-ब्याह वालो की भारी भीड़ दिखाई दी।  और इस तरह की नासमझी ने ही उज्जैन शहर को लॉकडाउन की और धकेला है जिसके चलते कलेक्टर को शहर सहित पूरा जिले में सख्त कोरोना कर्फ्यू (Corona curfew) लगाना पड़ा है।