देवास : युवा अधिकारी की पहल पर अतिक्रमण से मुक्त हुई वन्यभूमि, अब लगाएंगे पौधे

एसडीओ अमित सोंलकी ने न केवल वन्य भूमि से अतिक्रमण हटवाया, बल्कि नवाचार कर अतिक्रमण की जाने वाली भूमि पर जेसीबी से बड़े-बड़े गड्ढे कर दिए है। ताकि वन्य भूमि पर कृषि कार्य नहीं किया जा सके।

देवास, सोमेश उपाध्याय। देवास (dewas) जिले के बागली (Bagli) वन उपमंडल में जंगल माफियाओं (jungle mafia) द्वारा अतिक्रमण किया जा रहा था। जिसके विरुद्ध युवा अधिकारी ने अभियान चला रखा है। बागली उपवन मण्डल में पदस्थ एसडीओ अमित सोंलकी ने न केवल वन्य भूमि से अतिक्रमण हटवाया, बल्कि नवाचार कर अतिक्रमण की जाने वाली भूमि पर जेसीबी से बड़े-बड़े गड्ढे कर दिए है। ताकि वन्य भूमि पर कृषि कार्य नहीं किया जा सके।

यह भी पढ़ें…जबलपुर नकली रेमडेसिवीर इंजेक्शन मामला, गुजरात से लाए गए चार आरोपी, हो सकते हैं बड़े खुलासे

गौरतलब है कि बागली क्षेत्र का बड़ा हिस्से में वन्य क्षेत्र है। इसी वजह से यहां अवैध रूप से अतिक्रमण के मामले सामने आ रहे थे। जंगल माफियाओं द्वारा कृषि कार्य के लिए भूमि बनाने के उद्देश्य से जंगल में अवैध रूप से पेड़ों की कटाई की जाती है और अवैध कब्जा करने का प्रयास किया जा रहा था। खबर लगते ही युवा अधिकारी अमित सोंलकी ने तत्काल कार्रवाई करते हुए जंगल को अतिक्रमण मुक्त बनाने का प्रयास किया। जिनवानी के अंतर्गत आने वाले चुना भट्टी क्षेत्र कक्ष क्रमांक 763, 767 में वन विभाग की टीम द्वारा संयुक्त कार्रवाई की। और वन्य भूमि से अतिक्रमण हटाया। सोलंकी ने बताया कि उक्त भूमि पर बारिश होने के बाद पौधारोपण भी किया जाएगा।