Dewas News: उत्कृष्ट विद्यालय में कोरोना विस्फोट, 30 अप्रैल तक आंगनबाड़ी भी बंद रखने के आदेश

वायरस के बढ़ते संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए आंगनवाड़ी केंद्रों के संचालन के संबंध में नवीन आदेश जारी किए हैं।

corona

देवास, सोमेश उपाध्याय। देवास (dewas) में कोरोना (corona) के तूफ़ान में तहलका मचा रखा है।संक्रमण के बढ़ते प्रभाव के बीच देवास का उत्कृष्ट विद्यालय (Super school) भी चपेट में आगया। विद्यालय के 7 छात्र छात्राएं और 6 शिक्षक भी पॉजिटिव (positive) पाए गए।हालांकि संक्रमण की जानकारी लगने के बाद पूरे बिल्डिंग को सेनीटाइज भी किया गया। इसके बाद नागरिको द्वारा संक्रमण काल में शासन की शिक्षा नीति पर भी सवाल उठाए जा रहे है।

कलेक्टर चंद्रमौली शुक्ला के निर्देश पर संक्रमण से रोकथाम के लिये जिले भर में जनजागरूकता के साथ ही मास्क एवं सोशल डिस्टेसिंग का पालन न करने वाले व्यक्तियों पर लगातार चालानी कार्रवाई भी की जा रही है। साथ ही अस्थाई जेल भी भेजने की कार्यवाही जारी है। इसी क्रम में जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन एवं नगरनिगम के अमले ने देवास शहर के अलग-अलग स्थानों पर चालानी कार्रवाई कर 182 लोगों के चालान बनाए जिनसे 17 हजार 700 हजार रुपए का राजस्व वसूला। इसी प्रकार संस्थान एवं सोशल डिस्टेसिंग का पालन न करने वाले 9 स्थानों पर 2700 रुपए चालानी कार्रवाई की गई।

Read More: नगरीय निकाय चुनाव: सोमवार को HC में पेश होगा जवाब, आरक्षण पर फैसला जल्द

30 अप्रैल तक बन्द रहेंगी आंगनबाड़ी

देवास कलेक्टर चंद्रमौली शुक्ला ने देवास जिले में कोविड-19 वायरस के बढ़ते संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए आंगनवाड़ी केंद्रों के संचालन के संबंध में नवीन आदेश जारी किए हैं। नवीन आदेशानुसार दिनांक 30 अप्रैल -2021 तक जिले के समस्त आंगनवाड़ी केन्द्र एवं उप आंगनवाड़ी केन्द्र बंद रखें जाएगी।

शुक्ला ने आदेशित किया है कि जिन आंगनवाड़ी केन्द्रों पर 06 माह से 03 वर्ष के बच्चों एवं गर्भवती/धात्री माताओं के लिए एम.पी. एग्रो द्वारा पदायित टेक होम राशन नहीं है, उन्हें भी रेडी-टू-ईट ( सत्तू ) पोषण आहार वितरित किया जाएं। रेडी-टू-ईट ( RTE ) पोषण आहार प्रदाय करने पर पृथक से थर्ड पार्टी से मूल्याकंन करवाकर परियोजना स्तर पर व्यवस्थित रूप से अभिलेख संधारित किया जाएं।

Read More: Vaccine नहीं लगवाई तो हो जाइए सावधान, नहीं होगा आपका काम

आवश्यक स्वास्थ्य सेवाएं सुनिश्चित की जावे। हाई-रिस्क गर्भवती महिलाओं एवं गंभीर कुपोषित बच्चों (MAM.SAM) के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखा जाएं। उन्होंने आदेशित किया है कि आंगनवाडी केन्द्र संचालन/आंगनवाडी सेवा प्रदायगी, पूरक पोषण आहार के हितग्राहियों तथा उनमें से पूरक पोषण आहार के लाभान्वित हितग्राहियों की जानकारी परियोजना स्तर पर संधारित करें, तथा जिला स्तर पर प्रदान करें।

साथ ही भारत सरकार-स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय तथा राज्य सरकार द्वारा कोविड -19 संक्रमण से बचाव से हेतु समय-समय पर जारी गाईडलाईन तथा मास्क का उपयोग, नियमित हाथ धुलाई, सैनेटाईजेशन, सोशल डिस्टेंसिंग (सामाजिक दूरी) आदि का पालन सुनिश्चित किया जाए।