Vaccine नहीं लगवाई तो हो जाइए सावधान, नहीं होगा आपका काम

vaccination
vaccination

इन्दौर डेस्क: आकाश धोलपुरे– कोरोना की वैक्सीन (Vaccine) लगवाने के लिए लोगों को प्रेरित करने इंदौर के कलेक्टर ने अभिनव कदम उठाया है। उन्होंने ऐसे लोगों के सरकारी कार्यालयों में प्रवेश पर पाबंदी लगाने के निर्देश दिये है, जिन्होंने कोरोना वैक्सीन (Vaccine) नहीं लगवाया है। ऑफिस में एंट्री करते समय 45 साल से ऊपर वाले हर व्यक्ति को अपना कोरोना वैक्सीनेशन का प्रमाण पत्र दिखाना होगा। यह व्यवस्था इसी माह 15 अप्रैल से लागू हो जाएगी।

Lockdown: बेलगाम कोरोना,अगले हफ्ते से और बढ़ेगा लॉकडाउन

कोरोना से बचाव ‘दवाई भी, कङाई भी’ इस मूलमंत्र के सहारे ही कोरोना पर विजय प्राप्त की जा सकती है। आंकड़े बता रहे हैं कि जिन देशों ने वैक्सीनेशन का काम तेजी से किया है वहां पर अब कोरोना संक्रमण की दर तेजी के साथ नियंत्रित हो रही है। ऐसे देशों में इजराइल सबसे आगे है। देशभर में भी एक अप्रैल से अब 45 वर्ष से ऊपर वाले हर व्यक्ति को टीका (Vaccine) लगाने का काम शुरू हो गया है। प्रदेश सरकार ने भी इसके लिए युद्ध स्तर पर मुहिम छेड़ दी है। लेकिन अब भी कई लोग ऐसे हैं जो भ्रामक व असत्य जानकारियों के आधार पर वैक्सीन (Vaccine) लगवाने से कतरा रहे हैं। ऐसे लोगों को सकारात्मक ढंग से प्रेरित करने के साथ-साथ अब इंदौर में जिला प्रशासन ने एक कड़ा कदम उठाया है। कलेक्टर मनीष सिंह ने आदेश दिए हैं कि 15 अप्रैल के बाद कोविड-19 वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट ना होने वाले व्यक्ति को किसी भी सरकारी दफ्तर में एंट्री नहीं दी जाएगी। कलेक्टर ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। उनका कहना है कि वैक्सीनेशन के प्रति लोगों को गंभीर होना होगा।

मास्क नहीं लगाने पर Integrated Traffic Management System काटेगा चालान

कलेक्टर का यह आदेश 15 अप्रैल के बाद प्रभावी होगा। सरकारी कार्यालयों के साथ-साथ मंडी, नगर निगम ,आईडीए सहित सभी कार्यालयो में 45 साल से ज्यादा उम्र वालों को सभी प्रवेश मिलेगा जब वे वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट या फोटो दिखा सकेंगे। यह फोटो उन्हें अपने मोबाइल में रखना होगा। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि लोग वैक्सीन (Vaccine) लगवाने से कतरा रहे हैं और गलत जानकारियों के आधार पर वैक्सीन (Vaccine) के बारे में भी भ्रामक जानकारियां फैलाई जा रही है। डॉक्टर कह चुके हैं कि वैक्सीन (Vaccine) पूरी तरह से सेफ है और यदि आपको खुद को बचाना है तो कोरोना की गाइड लाइन के पालन के साथ-साथ वैक्सीनेशन भी जरूरी है।

Mask: कोरोना से बचाव को लेकर सख्त शिवराज, मास्क नहीं लगाने वालों पर जुर्माना भी, जेल भी

 

इंदौर में लोगों को कोरोना वैक्सीन (Vaccine) लगाने के लिए प्रेरित करने के लिए सरकारी निजी-अस्पतालों, जोनल कार्यालयों और चिन्हित स्थानों पर शिविरों के माध्यम से वैक्सीन (Vaccine) लगाई जा रही है। अब इस काम में स्व सहायता समूह को भी लगाया गया है कि वे लोगों को वैक्सीन (Vaccine) लगाने के लिए प्रेरित करें। इसके लिए रविंद्र नाट्य ग्रह में ढाई सौ से अधिक समूह के प्रतिनिधियों को प्रशिक्षण दिया गया है। हर समूह को एक हजार से ज्यादा नागरिकों के वैक्सीनेशन का लक्ष्य दिया गया है।

युवाओं के रोजगार के लिए सीएम शिवराज की बड़ी घोषणा

 

3 अप्रैल को इंदौर के संभाग आयुक्त डा.पवन शर्मा ने वैक्सीन (Vaccine) का दूसरा डोज लगवाया और कहा कि उन्हें न पहले डोज में दिक्कत हुई ना दूसरे में। उन्होंने यह भी कहा कि वैक्सीन (Vaccine) सबके लिए सुरक्षित है और ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन (Vaccine) लगाकर संक्रमण को फैलने से रोकना चाहिए। दरअसल इंदौर में 2 अप्रैल से तीन दिन का वैक्सीनेशन महोत्सव चल रहा है। प्रशासन का प्रयास है कि इसके माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन (Vaccine) लगवाने के लिए प्रेरित किया जा सके ताकि कोरोना संक्रमण खतम हो सके। इसके साथ ही कलेक्टर ने यह भी निर्देश दिए हैं कि मास्क लगाने के लिए रोको टोको अभियान जारी रहेगा और अब अगर कोई मास्क ढंग से भी नहीं पहने गा तो उस पर भी कार्रवाई की जाएगी मस्का नहीं लगाने वालों को जुर्माने के साथ-साथ अस्थाई जेल में भी भेजने के लिए प्रशासन अब कड़ाई से काम करेगा