परेशान श्रमिकों ने किया चक्काजाम, आत्मदाह और चुनाव बहिष्कार की दी चेतावनी

श्रमिक और उनके परिवारों का आरोप था कि कंपनी प्रबंधन द्वारा अब भी हमारा हिसाब नहीं किया जा रहा हैं। सरकार द्वारा तय किए गए नियमानुसार जो हमारी ग्रेज्युटि व फंड बनता हैं उसका एक मुश्त रुपए हमें दिए जाए।

देवास, शकील खान। कई वर्षों से बंद पड़ी देवास की चामुंडा स्टैंडर्ड मिल के श्रमिक अपनी मांगों को लेकर पूरे परिवार के साथ कलेक्टर कार्यालय ज्ञापन देने पहुँचे। जब कलेक्टर उनसे मिलने नहीं पहुँचे तो नाराज श्रमिकों व उनके परिवार की महिलाओं ने कलेक्टर कार्यालय के निकट सयाजी द्वार के पास एबी रोड़ पर चक्काजाम कर दिया। करीब आधे घण्टे तक श्रमिक अपने परिवार के साथ यहां जमे रहें। अधिकारियों की समझाइश के बाद वह सड़क से हटे तब जाकर AB रोड़ पर यातायात बहाल हुआ। साथ ही ज्ञापन देने आए श्रमिकों ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर प्रशासन द्वारा अब भी हमारी समस्या हल नहीं की जाती हैं तो हम आगामी चुनाव का बहिष्कार करेंगे साथ ही हमें आत्मदाह के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें…अच्छी खबर : IMF की चीफ इकोनॉमिस्ट ने किया क्रिप्टीकरेंसी का समर्थन, कहा प्रतिबंध नहीं विनियमित करें

दरअसल, देवास की चामुंडा स्टैंडर्ड मिल पिछले आठ – दस सालों से बंद पड़ी हैं। जिसके चलते मील में काम करने वाले सभी श्रमिक बेरोजगार हो गए और उनकी ग्रेज्युटि व अन्य फंड भी अटके हुए हैं। कंपनी प्रबंधन ने श्रमिकों को आश्वासन दिया था कि मील की मशीनें व जमीन का सौदा होने पर सभी श्रमिकों को उनके रुपए दे दिए जाएंगे। लेकिन कंपनी मालिक ने धीरे- धीरे सभी मशीनें बेच दी और जिसके बाद अब भूमि भी बेच दी गई हैं, जिस पर कॉलोनी का निर्माण किया जा रहा हैं।

यह भी पढ़ें…एमपी बोर्ड पैटर्न में होंगे बड़े बदलाव, CBSE की तर्ज पर होगा माशिमं

श्रमिक और उनके परिवारों का आरोप था कि कंपनी प्रबंधन द्वारा अब भी हमारा हिसाब नहीं किया जा रहा हैं। सरकार द्वारा तय किए गए नियमानुसार जो हमारी ग्रेज्युटि व फंड बनता हैं उसका एक मुश्त रुपए हमें दिए जाए। इस संबंध में हम अधिकारियों को कई बार शिकायत कर चुके हैं, बावजूद इसके कोई भी हमारी समस्या पर ध्यान नहीं दे रहा हैं। श्रमिकों ने कहा कि इसलिए मजबूरन हमें सड़क पर उतरकर चक्काजाम करना पड़ा।

यह भी पढ़ें…डेढ़ साल की मासूम बोरवेल मे गिरी, निकालने के प्रयास जारी

ज्ञापन देने आए श्रमिक केशर सिंह गुर्जर ने तो यहां तक कह दिया कि अगर आगे भी हमारी समस्या का निराकरण नहीं होता हैं तो हमें मजबूरन आत्मदाह करना पड़ेगा…हम मर तो वैसे ही गए हैं… भूखे मर रहें हैं और बेइज्जती सहन कर रहें हैं। साथ ही उन्होंने कहां कि हम सब आगामी चुनाव का बहिष्कार भी करेंगे।

यह भी पढ़ें…Corona Thirdwave के खिलाफ तैयार है भिंड कलेक्टर, दिया यह आदेश

श्रमिकों के परिवार से आई महिलाओं ने कहा कि कंपनी बंद होने के बाद हमने मजदूरी और लोगों के घरों में काम करके अपने परिवार को पाला हैं। आज हमारे बच्चें ठीक से पड़ नहीं पाएं। उनका भविष्य बिगड़ गया। हमारी प्रशासन से मांग हैं कि कंपनी मालिक से हमारा पूरा रुपया दिलाया जाए।