वैक्सीनेशन के लिए उत्साहित युवा शहरी केंद्र छोड़ गांव की ओर दौड़े, टीके से वंचित रह गए ग्रामीण युवा

वैक्सीनेशन (Vaccination) के लिए उत्साहित युवा शहरी केंद्र छोड़ गांव की ओर जा रहे हैं। जिससे देवास जीके के बागली ग्रामीण क्षेत्र के युवा टीके से वंचित रह गए।

देवास, सोमेश उपाध्याय। प्रदेशभर में 18 प्लस युवाओं में वैक्सीनेशन (18+ Vaccination) को लेकर भारी उत्साह देखा जा रहा है। इसी के चलते शहरों में वैक्सीन (Vaccine) को लेकर मारामारी मची है। इससे बचने के लिए युवा अब ग्रामीण इलाके में स्थित टीकाकरण की ओर रूख करने लगे हैं। जहां देवास जिले के बागली में शहरी युवाओं के टीकाकरण करने पहुचने से ग्रामीण युवा ही वैक्सीन से वंचित रह गए।

यह भी पढ़ें:-अच्छी खबर: सिंगरौली पुलिस बना रही ऑक्सीजन युक्त 20 बेड का अस्पताल

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए युवा वर्ग में जल्द से जल्द कोरोनारोधी टीका लगवाने की होड़ से मची हुई है। गुरुवार को देवास जिले के बागली में 18+ वैक्सीनेशन की शुरुआत की गई। जहां इंदौर, देवास, उज्जैन व भोपाल सहित अन्य शहरी इलाकों के लोग उमड़ते गए। सबसे पहले इंदौर की श्वेता अरोड़ा को वैक्सीन लगाया गया। चूंकि एक दिन में 100 लोगों का ही लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिनकी सूची भी शासन द्वारा जारी की गई थी। लेकिन सूची में अधिकांश नाम अन्य शहरों के ही शामिल थे, जिस कारण ग्रामीण क्षेत्र में बनाए गए सेंटर में ग्रामीण युवा ही वैक्सीन से वंचित रह गए।

बता दें कि कोविड-19 वैक्सीन की डोज लेने को लेकर युवाओं में आपाधापी का माहौल हैं। कल शुक्रवार होने से वैक्सीनेशन बन्द रहेगा। अब अगली सूची में जारी नाम वाले लोगों का वेक्सिनेशन शनिवार को किया जाएगा।