गुना जेल में बंद एचआईवी पॉजीटिव कैदी की अस्पताल में मौत, अवैध शराब का करता था कारोबार

कैदी एचआईवी (HIV) पॉजीटिव था, जिसे रविवार रात सीने में दर्द की शिकायत के बाद जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां कुछ देर बाद उसने दम तोड़ दिया।

गुना, संदीप दीक्षित। गुना जेल (Guna Jail) में बंद एक कैदी की बीती रात जिला अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। 40 वर्षीय कैदी को अवैध शराब (illegal liquor) के मामले में 3 जून को गुना जेल भेजा गया था। कैदी एचआईवी (HIV) पॉजीटिव था, जिसे रविवार रात सीने में दर्द की शिकायत के बाद जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां कुछ देर बाद उसने दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें…कोरोना प्रभावितों की जयवर्धन सिंह ने की मदद, स्वेच्छानुदान निधि से 132 हितग्राहियों को दिए साढ़े सात लाख रुपए

जेल अधीक्षक दिलीप सिंह के मुताबिक कैदी भगवान सिंह को जामनेर थाना पुलिस ने अवैध शराब बेचने के मामले में गिरफ्तार किया था। जिसे न्यायालय के आदेश पर 3 जून को गुना जेल भेज दिया गया। कैदी पहले से एचआईवी पॉजीटिव था। रविवार राम लगभग 11:30 बजे उसे सीने में दर्द की शिकायत हुई तो जेल डॉक्टर राजपूत की सलाह पर जिला अस्पताल भिजवा दिया गया। जहां से कुछ देर बाद खबर मिली कि कैदी भगवान सिंह की मौत हो चुकी है। इसके बाद उसके परिजनों को सूचना दे दी गई। जेलर अधीक्षक के मुताबिक पहले भी आपराधिक मामलों में भगवान सिंह जेल में बंद रह चुका है।

घर से ही करता था अवैध कारोबार
जामनेर थाना पुलिस ने 2 जून को भगवान सिंह पुत्र लक्ष्मीनारायण धाकड़ को उसी के गांव बरसत में घर के नजदीक से गिरफ्तार किया था। पुलिस जब भगवान को पकडऩे पहुंची तो उस समय भगवान सिंह के पास 55 लीटर अवैध शराब भी बरामद हुई थी। जिसे गिरफ्तार कर लिया गया और न्यायालय में पेश किया गया। जहां से जेल भेज दिया गया। पुलिस के मुताबिक भगवान को पहले भी अवैध शराब का कारोबार करने के मामले में गिरफ्तार किया जा चुका है।

जेल में था आना-जाना
जेल और पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपी भगवान सिंह का जेल में कई बार बंद रह चुका है। इसकी अधिकारिक संख्या तो सामने नहीं आई, लेकिन अवैध शराब के मामले में जामनेर पुलिस उसे गिरफ्तार करती और कुछ दिन जमानत मिलने के बाद वह फिर रिहा हो जाता। जेल अधिकारियों को पहले से पता था कि भगवान सिंह एचआईवी पॉजीटिव है। यह बीमारी भी उसे काफी समय पूर्व लगी थी। जिसका इलाज के दौरान पता चला था। इसके बावजूद भगवान अपने स्वास्थ्य पर कम और अवैध कारोबार पर ज्यादा ध्यान देता था।

यह भी पढ़ें…झील में तैरने लगे 500 और 200 के नोट, लोगों में लूटने की होड़