प्रशासन ने ईंट भट्टे से मुक्त कराए 52 बंधुआ मजदूर, हिमाचल का युवक भी मुक्त

ग्वालियर। जिला प्रशासन ने एक शिकायत के बाद गुरुवार की रात  ईट भट्टे पर मजदूरी कर रहे 52 बंधुआ मजदूरों को मुक्त कराया। इनके साथ बढ़ी संख्या में महिलाएं और छोटे बच्चे मौजूद थे। उटीला पुलिस ने आरोपी दो ठेकेदारों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

एसडीएम अनिल बनवारिया के मुताबिक कलेक्टर अनुराग चौधरी  को उटीला थाना क्षेत्र के सिहरा गाँव के पास सड़क किनारे चल रहे ईट भट्टों पर बंधुआ मजदूरों की शिकायत मिली थी। जब वे पुलिस और प्रशासन की टीम के साथ मौके पर पहुंचे तो वहां बबलू तोमर और राजू शर्मा द्वारा अवैध रूप से चलाए जा रहे ईट के भट्टे पर काम करने के लिए उत्तर प्रदेश के  बदायूं और  अन्य जिलों से लाये गए मजदूरों के परिवार मिले। अधिकारियों ने जब गिनती की तो इनकी संख्या 52 थी इनमें 30 वयस्क महिला पुरुष थे जबकि शेष 22 नाबालिग बच्चे थे। पुलिस ने जब नाबालिग और गोदी के बच्चों को देखा तो कई ऐसे थे जो बुखार से पीड़ित थे। जिनके इलाज की व्यवस्था प्रशासन ने की। पूछ ताछ में मजदूरों ने बताया कि करीब बीस दिन पहले ही दोनों ठेकेदार उन्हें यहाँ लेकर आये हैं। जिला प्रशासन इनको उनके घर वापस पहुँचाने की व्यवस्था कर रहा है। उटीला थाना पुलिस ने आरोपी ठेकेदारों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। 

बंधुआ मजदूरी कर रहे हिमाचल के युवक को पुलिस ने कराया मुक्त

उधर महाराजपुरा थाना क्षेत्र में बंधुआ मजदूरी कर रहे हिमाचल प्रदेश के एक युवक को पुलिस ने मुक्त कराया है । पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार हिमाचल प्रदेश का रहने वाले कृष्ण कुमार को करतार गुर्जर और विकेश गुर्जर ने बंधक  बनाकर अपने यहाँ रखा था। 36 वर्षीय कृष्ण कुमार 2015 से लापता हो गया था उसकी गुमशुदगी हिमाचल प्रदेश के थाने में दर्ज है। मुक्त कराने के बाद महाराजपुरा थाना पुलिस ने कृष्ण कुमार के परिजनों को सूचना दे दी है।