कांग्रेस को कैबिनेट मंत्री का जवाब “मैं दलित हूँ, कमलनाथ ने मुझे तो कभी सम्मान से कुर्सी पर नहीं बैठाया”

ग्वालियर। अतुल सक्सेना| गुना (Guna) में दलित किसान पति पत्नी पर हुए पुलिसिया अत्याचार के खिलाफ मुखर हुई कांग्रेस (Congress) ने इसे मुद्दा बना लिया। कांग्रेस के नेता भाजपा को दलित विरोधी कहकर घटना के बाद से लगातार हमले कर रहे हैं। कांग्रेस के हमले का कैबिनेट मंत्री इमरती देवी (Minister Imarti devi) ने करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि ” मैं दलित हूँ, मैंने कांग्रेस में देखा है। मैंने मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) के सामने खड़े रहकर ही बात की उन्होंने कभी मुझे सम्मान से कुर्सी पर नहीं बैठाया।

ग्वालियर में चुनिंदा पत्रकारों से बात करते हुए महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने गुना की घटना पर अफसोस जताते हुए कहा कि पूरी पार्टी को इस घटना पर बहुत अफसोस है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने जांच के आदेश दिये हैं । आईजी, कलेक्टर, एसपी बदल दिये गए हैं। इसके लिए जो भी पुलिस वाले दोषी हैं उन्हें कड़ी। सजा मिलेगी। कांग्रेस द्वारा इसे मुद्दा बनाये जाने के सवाल पर इमरती देवी ने कहा कि कांग्रेस के पास कुछ बचा नहीं है, चुनाव सामने है इसलिए वो मुद्दे उखाड़ रही है।

भाजपा नहीं कांग्रेस है दलित विरोधी
कांग्रेस द्वारा भाजपा को दलित विरोधी कहने पर मंत्री इमरती देवी ने कहा कि दलित विरोधी तो कांग्रेस है। जब मैं कांग्रेस में थी और कांग्रेस की सरकार थी तब कई बार कहा कि 2 अप्रैल की घटना में दलितों पर दर्ज केस वापस ले लो तो क्यों नहीं लिए। फूल सिंह बरैया का उदाहरण देते हुए इमरती देवी ने कहा कि यदि कमलनाथ और कांग्रेस के नेता इतना दलितों का सम्मान करने वाले हैं और जिस बरैया को साथ लेकर चल रहे हैं, दिग्विजय सिंह पीछे हट जाते राज्यसभा भेज देते। मंत्री ने कहा कि घटना पर सबको अफसोस है हमारी सरकार और पार्टी इसे लेकर चिंतित है और जो भी दोषी है उसे सजा जरूर मिलेगी।

कमलनाथ ने मुझे कभी सम्मान से कुर्सी पर नहीं बैठाया
गुना कि घटना के बाद दलितों की नाराजगी के सवाल पर इमरती देवी ने कहा कि कांग्रेस गलत कह रही है पूरा SC समाज भाजपा के साथ है। उन्होंने कहा कि आज हम SC समाज के 6 मंत्री विधायक भाजपा में आये हैं तो कुछ देखा होगा ना। मंत्री ने अपनी डबरा विधानसभा का उदाहरण देते हुए कहा कि कहीं मत जाइये डबरा को ही देख लीजिये यहाँ दलितों को एक हजार आवास दिये हैं ये किसने दिये भाजपा ने ही तो दिये। भाजपा दलितों की असली हमदर्द है। इमरती देवी ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि ” मैं दलित हूँ, मैंने कांग्रेस में रहकर देखा है मैं मुख्यमंत्री रहते कमलनाथ के सामने खड़ी रही हूँ लेकिन कभी कमलनाथ ने मुझे सम्मान से कुर्सी पर नहीं बैठाया, अगर कहीं वे एक फोटो दिखा दें कि फलानी जगह उन्होंने इमरती को सम्मान के साथ कुर्सी पर बैठाया है तो मैं फिर जवाब दूँगी। उन्होंने दावा किया कि दलित समाज भाजपा के साथ है जब प्रत्याशी जीतकर आयेंगे तब देख लेना।