सेवढ़ा रेंजर ने मुख्य वन संरक्षक को भेजा त्याग पत्र, कहा-माफियाओं से जान का खतरा

सेवढ़ा वन रेंजर ने मुख्य वन संरक्षक को त्याग पत्र भेज है। जिसमें रेंजर ने माफियाओं से जान का खतरा बताया है।

सेवढ़ा, राहुल ठाकुर। सेवढ़ा में इन दिनों रेत का अवैध उत्खनन (Illegal Excavation) चरम पर है। क्षेत्र में अवैध उत्तखनन करने वाले माफियाओं पर कार्रवाई को लेकर स्थानीय अधिकारियों का सहयोग न मिलने पर वन परिक्षेत्र अधिकारी ने मुख्य वन संरक्षक वनवृत ग्वालियर को त्यागपत्र भेजा है। सेवढ़ा वन रेंजर ने खुद को रेत माफियाओं से जान को खतरा बताया है।

यह भी पढ़ें:-शिवपुरी में कोरोना कर्फ्यू के नाम पर मनमाने तरीके से किए रास्ते बंद, लोग हो रहे परेशान

सेवढ़ा वन रेंजर ने पत्र में बताया है कि विभाग में कार्य करने के साथ-साथ वरिष्ठ अधिकारियों का सहयोग नहीं होकर मानसिक प्रताड़ना का शिकार हो रहा हूं। मेरी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है और मेरी जान को खतरा बना हुआ है। मेरा त्याग पत्र शीघ्र स्वीकृत कर मुझे शासकीय सेवा से सेवा मुक्त करने की कृपा करें। अन्यथा मेरी जान पर किसी प्रकार से कुछ होता है जिसका विभाग जिम्मेदार रहेगा। रेंजर ने बताया कि वन परिक्षेत्र सेवढ़ा के अंतर्गत रेत के ठेकेदार के पी सिंह भदोरिया ने दतिया जिले का रेत का ठेका लिया है। ठेकेदार द्वारा बिना स्वीकृति खदानों से बाहुबल के साथ बल पूर्वक रेत उत्खनन किया जा रहा है। जिसमें वन क्षेत्र भी शामिल है।

यह भी पढ़ें:-कुएं से पानी निकालने के लिए गजब की जुगाड़ तकनीक, वीडियो वायरल

वन रेंजर ने बताया कि वन परिक्षेत्र बीट बडेर बोल्डर उत्खनन के लिए संवेदनशील है। क्षेत्र की जांच वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा करवाई गई जिसमें मुझे और मेरे स्टाफ को निर्दोष पाया गया। इसके बावजूद भी डीएफओ दतिया द्वारा कार्रवाई कर स्टाफ और मेरे ऊपर लाखों रुपए की वसूली निकाल दी गई। इस कार्रवाई से सभी मानसिक रूप से परेशान है और सहयोग प्राप्त ना होने के कारण शासकीय कार्य नहीं कर पा रहे हैं।