कोरोना से मौत हुई तो होगा बड़ा गुनाह, ग्वालियर नगर निगम डेड बॉडी से भी करेगा वसूली!

मृतक के परिजन हर्ष खंडेलवाल ने कर्मचारी से बातचीत का वीडियो बनाकर वायरल किया है जिसमें कर्मचारी रुपये मांगता दिखाई दे रहा है। हर्ष ने अपनी एक वीडियो भी श्मशान गृह में बनाकर वायरल की है उसमें उन्होंने बताया कि कोरोना मरीजों से किस तरह लूट की जा रही है

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। संवेदना, संजीदगी, मानवीयता, सहयोग जैसे शब्दों का ग्वालियर नगर निगम (Gwalior Municipal Corporation) के अधिकारियों कर्मचारियों से कोई वास्ता नहीं है, ये हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि ग्वालियर नगर निगम (Gwalior Municipal Corporation) के श्मशान गृह में उसके कर्मचारी डेड बॉडी यानि मृतक शरीर से भी वसूली कर रहे हैं। ताजा मामला लक्ष्मीगंज श्मशान गृह का है। रविवार को यहाँ जब शव अंतिम संस्कार के लिए पहुंचे तो वहां गिद्द जैसी दृष्टि गड़ाए मौजूद ग्वालियर नगर निगम के कर्मचारी 4 से 6 हजार की वसूली करते दिखाई दिए जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है ।

भ्रष्टाचार और अवैध वसूली को लेकर बदनाम हो चुकी ग्वालियर नगर निगम (Gwalior Municipal Corporation) के अधिकारी कर्मचारी अब श्मशान गृह को भी नहीं छोड़ रहे।  यहाँ उन्होंने आपदा में अवसर तलाश लिया है। पिछले दिनों समाजसेवी सुधीर सप्रा के पिताजी श्री कृष्ण लाल शर्मा की सामान्य मौत पर निःशुल्क गैस प्लांट में अंतिम संस्कार की एवज में 1500 रुपये लेकर रसीद नहीं देने का मामला सुर्ख़ियों में आया था।  उसके बाद ग्वालियर नगर निगम (Gwalior Municipal Corporation) के नोडल ऑफिसर अतिबल सिंह यादव ने प्रेस नोट जारी कहा कि श्मशान गृह में कहीं कोई पैसे नहीं लेता, प्राइवेट आदमी मौके का फायदा उठाकर मृतक के परिजनों के साथ धोखा करते हैं और वसूली करते हैं।

ये भी पढ़ें – शिवराज का बयान, मध्य प्रदेश में कहीं लॉकडाउन नहीं, कोरोना कर्फ्यू है

आज रविवार को ग्वालियर नगर निगम (Gwalior Municipal Corporation) के नोडल ऑफिसर अतिबल सिंह यादव की बात उस समय झूठी साबित हो गई जब मृतक के परिजनों से अंतिम संस्कार के लिए कुछ लोग सौदा करते दिखाई दिए और इनका वीडियो वायरल हुआ। खुद को श्मशान गृह के कर्मचारी बता रहे ये लोग कोरोना मरीज के परिजन से अंतिम संस्कार के लिए 4 से 6 हजार रुपये मांगते दिखाई दे रहे हैं।

एक मृतक के परिजन हर्ष खंडेलवाल ने कर्मचारी से बातचीत का वीडियो बनाकर वायरल किया है जिसमें कर्मचारी रुपये मांगता दिखाई दे रहा है। हर्ष ने अपनी एक वीडियो भी श्मशान गृह में बनाकर वायरल की है उसमें उन्होंने बताया कि कोरोना मरीजों से किस तरह लूट की जा रही है लक्ष्मीगंज श्मशान गृह में लकड़ी कंडे से अंतिम संस्कार करने के लिए 1400 रुपये की रसीद काटी जा रही है और 4 से 6 हजार रुपये की वसूली की जा रही है।  हर्ष ने वीडियो में कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह से इसे रोकने की अपील की है। बाद में उन्होंने अपने परिजन के शव का अंतिम संस्कार इलेक्ट्रिक शवदाह गृह में कर दिया।  यहाँ एक निर्धारित राशि की रसीद कटती है और अंतिम संस्कार निःशुल्क होता है।

ये भी पढ़ें – पोहे की दुकान बंद कराने पहुंचे अफसरों को विधायक ने बैरंग लौटाया, कहा-पहले डोमिनोज बंद कराओ