इंदौर: जूनियर डॉक्टर के बाद अब नर्स भी सरकार से नाराज, जानें क्या हैं इनकी मांगें

नर्सेज एसोसिएशन ने बताया कि हमने पूरे कोविड काल (covid period) में पूरी तन्मयता से काम किया। हमारे कई साथी कोरोना काल में शहीद भी हुए है।

नर्स

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश में जूनियर डॉक्टर की नाराजगी के बाद अब नर्स एसोसिएशन (nursing association) ने भी हड़ताल पर जाने का मन बना लिया है। अपनी लंबित मांगों (demands) को लेकर पूरे प्रदेश में नर्सिंग एसोसिएशन द्वारा 7 दिन काली पट्टी बांधकर कार्य किया जा रहा है। बुधवार सुबह एम.वाय.अस्पताल में 750 मेल व फीमेल नर्स ने काली पट्टी बांधकर विरोध (protest) जताया। नर्सेज एसोसिएशन ने बताया कि हमने पूरे कोविड काल (covid period) में पूरी तन्मयता से काम किया। हमारे कई साथी कोरोना काल में शहीद भी हुए है। हमारी मांग है कि उनके परिजनो को अनुकंपा नियुक्ति के साथ ही कोरोना योद्धा के रूप में सम्मानित किया जाना चाहिए। साथ ही उच्च स्तरीय वेतनमान ग्रेड -2 अन्य राज्यों की तर्ज पर मध्यप्रदेश में कार्यरत समस्त नर्सेस को दिया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें… MP: तो क्या बढ़ रहा प्रदेश BJP में विवाद! कार्यसमिति की सूची से शुरू हुए सवाल

इसके अलावा नर्सिंग एसोसिएशन ने पुरानी पेंशन योजना भी लागू करने की भी मांग की है। इनका कहना है कि कोरोना काल में शासन ने जितनी भी घोषणाएं की उन पर अमल नहीं किया गया है। वहीं एसोसिएशन ने कहा, कोविड-19 में नर्सेस को सम्मानित करते हुए अग्रिम दो वेतनवृद्धि का लाभ उनकी सैलेरी में दिया जाए। मेल नर्स के साथ भेदभाव किया जाता है। उन्हें समान अवसर नहीं दिए जाते हैं। कई जगह खाली पद होते हुए भी भर्ती नहीं की जाती है। उनकी भर्ती पुन: आरंभ की जाए।

यह भी पढ़ें… MP Weather Alert: मप्र के 8 संभागों में बारिश के आसार, एक हफ्ते बाद मानसून देगा दस्तक

नर्सिंग एसोसिएशन ने चरणबद्ध आंदोलन के साथ ही मांगे नहीं माने जाने पर हड़ताल पर जाने की चेतावनी भी दी है।