suspended

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इन दिनों मध्य प्रदेश के ऊर्जा मंत्री (MP Energy Minister)  प्रद्युम्न सिंह तोमर  (Pradyuman Singh Tomar) लापरवाहों पर एक के बाद एक कार्रवाई कर रहे है।अब ऊर्जा मंत्री के निर्देश पर मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी (Central Zone Electricity Distribution Company)  ने इंदौर जिले में पदस्थ तीन इंजानियरों को तत्काल प्रभावी से निलंबित कर दिया है।हालांकि यह पहला मौका नहीं है। इसके पहले भी कई अधिकारियों-कर्मचारियों पर गाज गिर चुकी है।

यह भी पढ़े.. Electricity : मप्र के बिजली उपभोक्ताओं के लिए खुशखबरी, कंपनी ने शुरु की ये बड़ी योजना

दरअसल, सोमवार की रात ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर इंदौर (Indore) से भोपाल (Bhopal) जाते वक्त इंदौर बायपास से गुजर रहे थे। वहां निरीक्षण के दौरान मेंटेनेंस में लापरवाही पाई गई। उन्होंने स्वयं कुछ स्थानों पर विद्युत संपत्ति के पास से पेड़ की शाखाएं, झाड़ियां हटाई। इस अवसर पर उन्होंने मेंटेनेंस का कार्य गंभीरता से करने व उपभोक्ता सेवाओं पर भी ज्यादा ध्यान देने के निर्देश दिए। इसके बाद ऊर्जा मंत्री ने मांगलिया स्थित ग्रिड, मांगलिया ग्रामीण विद्युत वितरण केंद्र कार्यालय एवं महालक्ष्मी नगर जोन कार्यालय का निरीक्षण किया, यहां आउट सोर्स कर्मचारियों की उपस्थिति संबंधी कार्यों में लापरवाही पाने पर कठोर कार्रवाई के निर्देश प्रबंध निदेशक अमित तोमर को दिए।

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के निर्देश पर मंगलवार को मप्रपक्षेविविकं के कार्यपालक निदेशक  संजय मोहासे ने इंदौर उत्तर संभाग के एक्जिक्यूटिव इंजीनियर  मनेंद्र गर्ग, उत्तर संभाग के एचटी मेंटेनेंस प्रभारी असिस्टेंट इंजीनियर  प्रदीप दांगी एवं मांगलिया विद्युत वितरण केंद्र प्रभारी जूनियर इंजीनियर  अशोक ठाकुर को निलंबित कर दिया है। निलंबन अवधि में दो इंजीनियरों का इंदौर शहर वृत्त एवं एक का मुख्यालय इंदौर ग्रामीण वृत्त नियत किया गय़ा है।

यह भी पढ़े.. MP Weather Update: मप्र के इन जिलों में बारिश के आसार, बिजली चमकने की भी संभावना

बता दें कि इन दिनों ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) समर्थक और शिवराज सरकार में ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर खूब चर्चाओं में बने हुए है। बीते दिनों ऊर्जा मंत्री तोमर ने कार्य में लापरवाही बरतने पर दो प्रबंधकों को कारण बताओ नोटिस और दो उप-महाप्रबंधको को चेतावनी जारी की थी वही कॉल सेन्टर (Call Center) के प्रभारी डीई और एई की एक-एक वेतन वृद्धि रोकने और कॉल सेन्टर चलाने वाली एजेन्सी के विरूद्ध कार्रवाई के निर्देश दिये गए थे।इतना ही नहीं ग्वालियर में ऊर्जा मंत्री की नाराजगी के बाद निगम कमिश्नर ने 6 अधिकारियों कर्मचारियों को निलंबित (Suspended) कर दिया था।