इंदौर के निजी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी, परिजन भटके, कांग्रेस ने संभाला मोर्चा

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर (Indore) में कोरोना (Coronavirus) का तांडव ऐसा मचा हुआ है कि व्यवस्थायें चरमरा गई है और हालात इतने बेकाबू हो चले इन व्यवस्थाओं पर खुद BJP नेता सवाल उठाने लगे है और मान रहे कि सबकुछ भंग हो गया है और मीडिया इस बात को जानती है कि हकीकत क्या है।

दरअसल, कोरोना काल के इस दौर में प्रदेश के इंदौर (Indore) में सबसे ज्यादा बुरे हालात है यहां पहले जहां रेमडेसिविर इंजेक्शन को लेकर लोग सड़कों पर उतरे थे, वही अब एक बार फिर ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी के चलते मामला बिगड़ गया है।  इंदौर के भंवरकुआ थाना क्षेत्र में स्थित गुर्जर हॉस्पिटल में रात को ऑक्सीजन की कमी की जानकारी सामने आई और जानकारी ये भी सामने आई कि यहां एक मरीज की मौत भी इसकी वजह से हो गई है।

यह भी पढ़े.. लॉकडाउन के बाद टूटा रिकॉर्ड, मप्र में 6489 नए कोरोना पॉजिटिव, 37 ने हारी जिंदगी

वही देर रात ही अस्पताल प्रबंधन द्वारा ऑक्सीजन की कमी पड़ने पर मरीजो को अपने अपने पेशेंट के लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था करने का फरमान अस्पताल की ओर से जारी किया गया। ऐसे में लाचार परिजनों ने न सिर्फ इंदौर बल्कि पीथमपुर से भी ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था गुर्जर अस्पताल प्रबंधन के कहे अनुसार की।

मरीजो के परिजन वाहनों से अस्पताल लाये सिलेंडर

रविवार रात को गुर्जर हॉस्पिटल से जो तस्वीरे सामने आई वो ये बताने के लिए काफी थी कि इंदौर न सिर्फ सरकारी बल्कि प्रायवेट हॉस्पिटल पर भी कोरोना का बुरा साया पड़ा है जहां लाखो रुपये की फीस चुकाने बावजूद मरीजो को इलाज की पुख्ता सुविधाओं का अभाव है। गुर्जर हॉस्पिटल पर तो जब मीडिया पहुंची तो वहां मात्र 2 से 3 घण्टे की ऑक्सीजन बचने का दावा अस्पताल के स्टोर प्रबंधन द्वारा किया गया था।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के इन जिलों में बारिश के आसार, बिजली चमकने की भी संभावना

इसी बीच पीथमपुर सहित इंदौर व आस-पास के क्षेत्रों से ऑक्सीजन लेकर आये। उन्होंने न सिर्फ अस्पताल में सिलेंडर के रुपये जमा कराए बल्कि 25 से 30 किलोमीटर तक सिलेंडर ले जाने और लाने का खर्च भी परिजनों को भुगतना पड़ा। परिजनों ने मीडिया को अपनी व्यथा बताई और कहा कि व्यवस्थायें ठीक नही है। परिजनों को बाहर से सिलेंडर लाकर खुद उस स्थान पर रखना पड़े जहां से ऑक्सीजन की सप्लाय होती है।

कांग्रेस ने सरकार व प्रशासन पर उठाए सवाल 

इधर, जब गुर्जर हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी की खबर कांग्रेस (Congress) को लगी तो सोमवार सुबह पूर्व मंत्री और विधायक जीतू पटवारी (Congress MLA Jitu Patwari) और विधायक संजय शुक्ला (MLA Sanjay Shukla) गुर्जर अस्पताल पहुंचे। जहां परिजनों ने उन्हें अपनी पीड़ा बताई जिसे सुनने के बाद वो अस्पताल प्रबंधन से मिलने पहुंचे।

इसके बाद कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ने कहा कि सरकार व्यवस्था संभालने में नाकाम हो रही है ऐसे में फैक्ट्री संचालक, कारखाने वाले और वेल्डिंग वाले अपने वहां उपयोग में लाये जाने सिलेंडर मरीजो के इलाज के लिए जो कोरोना महामारी में एक बड़ा योगदान होगा। उन्होंने इस दौरान अस्पतालो और प्रशासन पर सवाल उठाए।

वही पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने साफ किया कि गुर्जर हॉस्पिटल एकमात्र उदाहरण नही है बल्कि इंदौर में हर हॉस्पिटल के हालात ऐसे ही है। उन्होंने कहा प्रशासन को इस भयावहता की चेतावनी कांग्रेस ने पहले ही दे दी थी। चूंकि ऑक्सीजन की कमी की खबर कल से गुर्जर हॉस्पिटल से आ रही है। वही रेमडीसीवीर इंजेक्शन पूरे शहर में नही है। उन्होंने कहा कि इंदौर में हालात खराब है ऐसे में इंदौरवासियों से अपील है कि अपने आपको बचाओ और ये समय प्रशासन और शासन ने जो लापरवाही की है उसके लिए भोगना हमको पड़ेगा।

वही पूर्व मंत्री ने कहा कि अब हम जहां है वहां से सोचे सबको मिलकर कोरोना से लड़ना है और प्रशासन व सरकार का हमे सहयोग करना है। उन्होंने लोगो से अपील कर कहा कि कोविड के सभी प्रोटोकॉल माने और लॉकडाउन का पालन करे साथ ही अव्यस्थाओ से निपटने में पब्लिक भी सहयोग करे। जिसके पास ऑक्सीजन घर मे है वो जहां जरूरत हो वहां पहुंचाए क्योंकि हालात खराब है इसलिए सबको मिलकर लड़ना है और जीतना है।

बीजेपी व्यापारिक प्रकोष्ठ के नगर उपाध्यक्ष ने कहा व्यवस्था बिगड़ चुकी है

बीजेपी व्यापारिक प्रकोष्ठ के नगर उपाध्यक्ष सुनील गुप्ता के बड़े भाई पुरुषोत्तम गुप्ता गुर्जर हॉस्पिटल में पिछले 8 दिन से भर्ती है और उन्हें खुद भी अस्पताल ने कल बोल दिया था कि वो अपने मरीज के लिए खुद ऑक्सीजन की व्यवस्था करे इसके बाद वो अपनी गाड़ी में दो सिलेंडर अरेंज कर आज लाये है। बीजेपी नेता सुनील गुप्ता ने बताया कि मुझे ऐसा लगता है कि व्यवस्थाये सभी जगह बिगड़ चुकी है। हालांकि उन्होंने कहा कि शासन प्रशासन व्यवस्था कर रहा है ऐसे में हमको भी मदद करना चाहिए। गुप्ता ने कहा व्यवस्थाएं मीडिया से भी छिपी नही है और व्यवस्थायें सभी जगह भंग है अभी तो।

स्वास्थ्य विभाग ने गुर्जर मामले में किया बचाव

गुर्जर हॉस्पिटल में आई ऑक्सीजन की कमी को लेकर जब कोविड – 19 के नोडल अधिकारी डॉ. अमित मालाकार से सवाल किया गया तो उन्होंने बचाव करते हुए कहा कि एक खबर आई थी कि किसी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी हो गई है लेकिन ऐसी कतई स्थिति नही थी वहां पर प्रशासन से लोग लगे रहे है और ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था पास के अस्पतालो से करवा दी गई थी। फिलहाल, इंदौर इंजेक्शन के साथ ही ऑक्सीजन की कमी के बुरे दौर से गुजर रहा है ऐसे में आप सभी से अपील है कि लॉक डाउन का पालन अपने घरों में ही सुरक्षित रहे है क्योंकि जान है तो जहान है।

इंदौर