MPPSC: कोरोना पॉजिटिव छात्र भी परीक्षा में हुए शामिल, PPE कीट पहन पहुंचे सेंटर

mppsc

इंदौर, आकाश धोलपुरे। लॉकडाउन (Lockdown) और कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते आंकड़ों के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan)  के निर्देश पर आज रविवार को मध्यप्रदेश में MPPSC मेंस की परीक्षा आयोजित की जा रही है। इंदौर में करीब 13 परीक्षा सेंटर बनाये गए, जहाँ जिला प्रशासन द्वारा जारी गाइडलाइन के तहत मास्क सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेसिंग के साथ परीक्षा ली जा रही है। इसी के साथ ही PSC मेंस की परीक्षा में चार कोरोना पॉजिटिव छात्रों को भी अलग से सेंटर बनाकर एग्जाम दिलाई गई।

यह भी पढ़े.. MPPSC: मुख्य परीक्षा देने से पहले इंदौर में छात्र ने फांसी लगाकर की खुदकुशी

इंदौर (Indore) के जीजा बाई कन्या महाविद्यालय (Indore College) में इन स्टूडेंट्स (Student) को MPPSC एग्जाम दिलवाई गई। इस सेंटर का निरीक्षण करने संभागायुक्त डॉ.पवन शर्मा भी पहुंचे। संभागायुक्त ने यहां हर कमरे का निरीक्षण किया और प्रबंधन को दिशा निर्देश भी दिए।

दरअसल, मेंस की परीक्षा के लिए चार कोरोना पीड़ित (Corona Positive) स्टूडेंट्स मरीजो को अलग से परीक्षा देने की अनुमति MPPSC मुख्यालय से दी गई थी, जिनमे से 2 परीक्षार्थी शामिल नहीं हो पाए थे वहीं दो अन्य नए मरीज संक्रमित होने के चलते उन्हें एग्जाम के लिए शामिल किया गया। इंदौर के माता जीजाबाई शासकीय कन्या महाविद्यालय में कोरोना (Corona) के चार मरीजों ने भी परीक्षा दी। वही इस सेंटर पर MPPSC के मुख्य परीक्षा के 500 छात्र रजिस्टर्ड है।

यह भी पढ़े.. MP में 1322 नए कोरोना पॉजिटिव केस, CM ने जताई चिंता, सोमवार को होली पर फैसला

पूरे केंद्र में वही MPPSC मुख्यालय से सूचना के तहत माता जीजाबाई को कॉपी सेंटर बनाया गया है। जिसमें स्वास्थ्य विभाग जिला प्रशासन स्वास्थ्य विभाग की गाइड लाइन का पूर्ण तरीके से पालन करते हुए कोविड-19 छात्रों को अलग से परीक्षा देने की व्यवस्था की गई है साथ ही इन परीक्षार्थियों की देखरेख का दायित्व भी डॉक्टर और नर्स द्वारा की जा रही है। महाविद्यालय की ओर से किसी भी कर्मचारियों को स्कूल सेंटर में जाने की इजाजत नहीं दी गई है।

चारों संक्रमित छात्र स्वास्थ्य विभाग (health Department)  द्वारा दी गई पीपीटी किट (PPE KIT) पहनकर एंबुलेंस के माध्यम से MPPSC के परीक्षा सेंटर तक पहुंचे जहां से एंबुलेंस (Ambulence) के माध्यम से ही इन्हें वापस भेजा जाएगा। एग्जाम के पहले पूरे परीक्षा हाल को सैनिटाइजर किया गया और थर्मल स्कैनिंगसभी छात्रों का तापमान मापा गया फिर एग्जाम कक्ष में प्रवेश दिया गया।

वही डिसेबल स्टूडेंट्स (Student) को लिखने पढ़ने में कोई समस्या ना हो इसके लिए (MPPSC) मुख्यालय के निर्देश पर ऐसे बच्चों को लिखने वाले साथियों की व्यवस्था अलग से की गई है। इस दौरान संभागायुक्त पवन शर्मा ने भी माता जीजाबाई शासकीय कन्या महाविद्यालय (College) का निरीक्षण किया जिसमें उन्होंने कोविड-19 से संक्रमित छात्रों और डिसेबल बच्चों को अलग से व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए।