कोरोना का डर: इंदौर में एसडीएम के रीडर ने पॉजिटिव होने के बाद किया सुसाइड

इंदौर एसडीएम (Indore SDM) अंशुल खरे के 55 वर्षीय रीडर बहादुरसिंह केलवा ने गुरुवार रात फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर (Indore) में कोरोना (Corona) काल में भी सुसाइड (Suicide) जैसे सामाजिक विकृति के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है। ताजा मामले में इंदौर एसडीएम (Indore SDM) अंशुल खरे के 55 वर्षीय रीडर बहादुरसिंह केलवा ने गुरुवार रात फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उन्होंने पत्नी और बच्चों के नाम सुसाइड नोट (Suicide note) लिखा है। जिसमें लिखा गया है कि मैं कोरोना के कारण आत्महत्या कर रहा हूं। वही पुलिस मर्ग कायम कर मामले की जांच में जुटी है।

यह भी पढ़ें…राजगढ़ में डॉक्टर ने दिया इस्तीफा, BMO पर लगाए प्रताड़ना के आरोप, ये है मामला

बतादें कि इंदौर के राजेंद्रनगर थाना क्षेत्र की ट्रेजर टाउनशिप में रहने वाले एसडीएम के रीडर बहादुर केलवा ने गुरुवार रात को फांसी लगाई और सुसाइड कर अपनी जान दे दी। शुक्रवार सुबह जब बेटे सुमित ने पिता को फांसी के फंदे पर लटका देखा तो पूरी घटना की जानकारी पुलिस को फ़ोन पर दी। मौके पर पहुंची पुलिस को तलाशी के दौरान घर से सुसाइड नोट मिला है। जिसमें मृतक रीडर ने लिखा कि मैं कोरोना से ठीक नहीं हो पाऊंगा। उन्होंने बेटे गौरव, सुमित को संबोधित करते हुए उन नाम लिखे हैं और ये भी लिखा कि किनसे रुपये लेने थे और किनकी रजिस्ट्री करवाना थी। पुलिस के मुताबिक परिजनों ने बताया कि उन्हें पिछले साल कोरोना हुआ था। इस बार तो हल्की सर्दी-खांसी हो रही थी और घर पर आराम कर रहे थे। फिलहाल पुलिस में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

कोरोना का डर: इंदौर में एसडीएम के रीडर ने पॉजिटिव होने के बाद किया सुसाइड

पुलिस ने सुसाइड मामले में ये कहा
राजेंद्र नगर थाना पुलिस के जांच अधिकारी राज प्रताप सिंह ने बताया कि मृतक का नाम 50 वर्षीय बहादुर सिंह केलवा है और वो ट्रेजर टाउनशिप में रहते है। पुलिस की माने तो सुसाइड का कारण पता नही चला है लेकिन पुलिस जांच कर रही है। वही पुलिस की माने तो मृतक ने फांसी लगा ली थी लेकिन परिवार वालो ने पुलिस के पहुंचने तक उन्हें फंदे से उतार दिया था।

यह भी पढ़ें…इंदौर में तैयार हुआ देश का पहला ब्लैक फंगस वार्ड, मंत्री तुलसी सिलावट ने ली बैठक, लिये गये अहम निर्णय