राजगढ़ में डॉक्टर ने दिया इस्तीफा, BMO पर लगाए प्रताड़ना के आरोप, ये है मामला

जिले के सिविल मेहताब अस्पताल में पदस्थ डॉक्टर विशाल सिसोदिया ने प्रताड़ित होकर इस्तीफा दे दिया है।

राजगढ़, डेस्क रिपोर्ट। एक तरफ जहां देश कोरोना (Corona) से जंग लड़ रहा है, इस महामारी में स्वास्थ्य महकमा लगातार लोगों के लिए जान जोखिम में डालकर दिन रात सेवा कर रहे हैं, वहीं मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के राजगढ़ (Rajgarh) जिले के सिविल मेहताब अस्पताल में पदस्थ डॉक्टर विशाल सिसोदिया ने प्रताड़ित होकर इस्तीफा दे दिया है। डॉ सिसोदिया ने इस्तीफे के लिए अपने अधिकारी बीएमओ डॉ. गौरव त्रिपाठी को जिम्मेदार ठहराया है।

यह भी पढ़ें… संजय राउत द्वारा अहिल्याबाई की ममता से तुलना पर कैलाश विजवर्गीय का बयान, कहा राउत की मानसिक स्थिति ठीक नहीं

डॉक्टर विशाल सिसोदिया ने अपने जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ एस यदु को इस्तीफा भेजते हुए त्यागपत्र स्वीकार्य करने का आवेदन भी दिया है। जिसमें उन्होंने नरसिंहगढ़ बीएमओ डॉ. गौरव त्रिपाठी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। डॉ सिसोदिया ने बताया कि मेरी पदस्थापना संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं म.प्र. भोपाल के आदेश द्वारा सिविल अस्पताल नरसिंहगढ़ जिला राजगढ़ में मेडिकल आफिसर के पद पर जन स्वास्थ्य हेतु पोस्टिंग की गई थी। परन्तु प्रभारी अधीक्षक, डॉक्टर गौरव त्रिपाठी व्यक्तिगत रूप एवं जातिगत रूप से राजनीति का सहारा लेकर मुझे अन्य स्वास्थ्य संस्थाओं में मेरा संलग्नीकरण करवाया जा रहा है, जिससे कि मानसिक एवं आर्थिक रूप से परेशान हो रहा हूँ तथा मेरा मनोबल टुट रहा हैं।

जातिगत रूप से परेशान करने का भी आरोप
वही उन्होंने डॉ गौरव त्रिपाठी पर जातिगत रूप से परेशान करने का भी आरोप लगाया है, गौरतलब है कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा अटेचमेंट पर पूर्णतया प्रतिबंध है। उसके बावजूद डॉक्टर विशाल सिसोदिया का संलग्नीकरण खिलचीपुर कर दिया गया। डॉ विशाल ने बताया कि में छोटे से गांव से आया हूँ और मुझे जातिगत रूप से परेशान किया जा रहा है। अगर कार्यवाही नही हुई तो में आगे जाऊंगा। वही उन्होंने सीएमएचओ से त्याग पत्र स्वीकार करने के लिए आवेदन दिया है।

राजगढ़ में डॉक्टर ने दिया इस्तीफा, BMO पर लगाए प्रताड़ना के आरोप, ये है मामला

यह भी पढ़ें…छतरपुर : गृह मंत्री ने की कोरोना की समीक्षा, कानून व्यवस्था को लेकर दिए जरूरी दिशा-निर्देश