इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के सबसे आधुनिक शहर इंदौर (Indore) में आज भी मान्यता के नाम पर टोटके कर राजनीतिक रोटियां सेंकी जा रही है ये इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि अब इंदौर की राउ के ग्रामीण क्षेत्र में ये चर्चाएं जोरो पर है।

यह भी पढ़ें… बालाघाट में नक्सलियों ने की सरेआम हत्या, चेतावनी भरा खत भी छोड़ा- पुलिस मुखबिर खबरदार हो !

बुधवार को भी इंदौर में अच्छी बारिश की कामना को लेकर एक टोटका किया गया। जिसे हर साल किया जाता है। इसी लिहाज से शहर के राऊ क्षेत्र के चौक से गधे को हार फूल पहना कर रहवासियों ने उसका जुलूस निकाला और उसे श्मशान ले जाकर उल्टी परिक्रमा लगवाई। नागरिकों के अनुसार ऐसा बारिश की कामना के लिए किया जाता रहा है। बता दे इन्दौर में मानसून 15 जून के आसपास आ जाता है लेकिन इस बार 30 जून तक बारिश के आसार नही दिखे लिहाजा ग्रामीणों ने परम्परा के अनुसार मान्यता को पूरा किया लेकिन इस टोटके में राजनीति का टोटका भी कुछ लोग चमकाते नजर आते है।

अजीब टोटके के पीछे छिपा हो सकता है राजनीतिक कारण !

दरअसल, यहां अच्छी बारिश के नाम पर एक गधे का इस्तेमाल किया जाता है। जिसे पूरे ग्रामीण क्षेत्र में उल्टी दिशा में घुमाया जाता है। इतना ही नहीं इसे आस्था कहे या अंधविश्वास बारिश के लिए ग्रामीण चंद नेताओ के कहने पर श्मशान में भी गधे के साथ उल्टी दिशा में 7 फेरे लगाते है। 7 फेरो का महत्व समझाते हुए खुद बीजेपी नेता शिवा डिंगु ये कहते है कि गांव में एक समाज विशेष के व्यक्ति के मरने के चलते अच्छी बारिश नहीं होती है लिहाजा, उन्हें ऐसा कदम उठाना पड़ता है।

फिलहाल, यहां सवाल ये उठ रहे है कि क्या गधे की उलटी परिक्रमा से वाकई इंद्रदेव खुश हो जायेगें और शहर में बारिश हो जाएगी। हालांकि अभी तक ये सवाल ही है क्योंकि शहर के आस पास के इलाकों में हल्की बारिश शुरू हो चुकी है। वहीं मौसम विभाग का भी कहना मानसून देरी से जरूर आएगा लेकिन दुरुस्त आएगा।