किराना सामान के होम डिलीवरी की लिस्ट निकली फर्ज़ी, नगर निगम ने कहा- “जरूरतदमंदों तक पहुंचा रहे हैं सामान”

इंदौर। आकाश धौलपुरे।

मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है लेकिन इसकी गम्भीरता को ना समझने वालों की अब भी कमी नही, जबकि इंदौर कोरोना संक्रमण के मामले में देश के शीर्षस्थ 4 संक्रमित क्षेत्रो में से एक है। इंदौर में ऐसी हद पार हो रही है कि आज ही सोशल मीडिया पर एक किराना दुकान की सूची वायरल हो गई। सूची के साथ मैसेज भी चलाये जा रहे है कि किराना दुकान संचालको से संपर्क कर लॉक डाउन के बीच सामान को घर भी मंगवाया जा सकता है। इस मामले में जब मीडिया ने पड़ताल की तो पता चला कि किराना दुकान संचालको को ही पता नही की उनका नम्बर दिया गया है। वार्ड स्तर की किराना दुकान की वायरल सूची में कई नम्बर तो लग ही नही रहे और कई आउट ऑफ सर्विस है। इस मामले में जब इंदौर निगमायुक्त आशीष सिंह से हकीकत जानी गई तो उन्होंने ऐसी कोई भी सूची जारी नही की जाने की बात कही और साथ ही उन्होंने किराना दुकान की वायरल सूची को फेक और झूठी करार दिया। निगमायुक्त आशीष सिंह ने बताया है कि फिलहाल, निगम की ओर से राधा स्वामी सत्संग आश्रम में 500 लोगो को ठहराया गया है जिनमे शहर के बेसहारा लोगो सहित वो मजदूर भी शामिल है जो पलायन करने पर मजबूर थे। उन्होंने बताया कि फिलहाल, निगम द्वारा जरूरतमंद लोगों के लिए 25 हजार खाद्य सामग्री के पैकेट तैयार किये गए है जो जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाये जाएंगे। उन्होंने बताया कि पैकेट में आटा, तेल, मिर्च, नमक, आलू व प्याज जैसा जरूरी सामान है जो लोगो तक पहुंचाया जा रहा है।