इंदौर, आकाश धौलपुरे। इंदौर में करीब 10 दिन बाद  एक बार फिर एंटी माफिया अभियान (Anti Mafia Campaign) के तहत  नामचीन गुंडों  के अवैध निर्माणों  को हटाने की कार्रवाई बुधवार से शुरू की गई। नगर निगम (Municipal Corporation), पुलिस (Police) व जिला प्रशासन (District Administration) द्वारा संयुक्त कार्रवाई कर सबसे पहले पंढरीनाथ थाना क्षेत्र के बंबई बाजार के अवैध निर्माण को निशाना बनाया। टीम ने बंबई बाजार में अतहर पिता सरवर बेग के मकान को ध्वस्त कर दिया। हालांकि कार्रवाई के लिए जैसे ही निगम की टीम मौके पर पहुंची तो परिजनों ने विरोध जताना शुरू कर दिया। पहले से ही विवाद की आशंका के चलते पुलिस ने एहतियात के तौर पर दोनों ओर की गलियों को बंद कर दिया था बावजूद इसके मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई थी। विवाद को देखते हुए पुलिस ने मोर्चा संभाला और फिर निगम की टीम ने बेग के दो मंजिला अवैध मकान पर जेसीबी चला दी। यहां पर करीब 200 लोगों की टीम कार्रवाई के दौरान मौजूद रही। बेग पर अलग-अलग थाना क्षेत्रों में एक दर्जन से भी ज्यादा मामले दर्ज हैं।

युवती ने कार्रवाई के विरोध में जान देने की कोशिश की

बम्बई बाजार के बाद संयुक्त अमला शहर के छत्रीपुरा थाना क्षेत्र में पहुंचा जहां छत्रीपुरा में रहने वाले मोइनुद्दीन उर्फ मुन्नू पिता अब्दुल शकूर के मकान को गिराने की कार्रवाई शुरू की गई। निगम की टीम ने  मुन्नू के तीन मंजिला मकान को ध्वस्त भी कर दिया। लेकिन मकान को गिराने के दौरान लोगों  द्वारा जमकर विरोध जताया गया। जिसके बाद पुलिस ने सख्ती बरतकर सभी को मौके से हटा दिया। इस बीच छत्रीपुरा में मकान तोड़ने के दौरान एक युवती ने जमकर हंगामा किया। युवती पहले तो कार्रवाई रुकवाने के लिए दूसरी मंजिल की रेलिंग में खड़ी हो गई और कूदने की धमकी देने लगी। इसके बाद निगम की टीम उसे उतारने के लिए जेसीबी की मदद से दूसरी मंजिल पर पहुंची लेकिन इसके पहले ही परिवार की एक महिला ने उसे पकड़कर अंदर की ओर खींच लिया। वहीं महिला को नीचे लेकर आए तो वह सड़क पर ही लेट गई इतना ही नहीं परिवार के पुरुष भी कार्रवाई के विरोध में हंगामा करने लगे जिसके बाद पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया। निगम अधिकारी देवेंद्र सिंह ने बताया कि कार्रवाई के दौरान कुछ लोग व्यवधान पैदा कर रहे थे जिन्हें पुलिस ने संभल कर अलग किया। इधर, एसडीएम मल्हारगंज पराग जैन ने बताया कि दो स्थानों पर एंटी माफिया अभियान के तहत अवैध निर्माणों को ध्वस्त करने की कार्रवाई को अंजाम दिया गया है।