इंदौर।
जल्द ही धार्मिक दृष्टि से मध्यप्रदेश में एक बड़ा आयोजन होने जा रहा है। इंदौर के पितृ पर्वत पर विश्व की सबसे ऊंची बजरंगबली की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा होने जा रही है। ग्वालियरके निवासी और प्रदेश और देश में विख्यात मूर्तिकार प्रभात राय के द्वारा तैयार की गई मूर्ति 108 टन की है। इस मूर्ति को बनाने में तांबा ,जस्ता सोना चांदी, शीशा सहित जैसी अष्ट धातु का प्रयोग किया गया है और उसे बनाने में लगभग 11 करोङ रू की लागत आई है। 108 टन वजन के बजरंगबली की नौ टन की गदा और 3 टन की छतरी है।

खास बात यह है कि छतरी पर 9 इंच आकार में 108 बार रामनाम गुदा है। भगवान राम की भक्ति में बैठे हनुमान जी की प्रतिमा के साथ 15 बाई 12 की रामकथा भी तैयार की गई है। हनुमान जी के हाथ में झान्झर की लंबाई 11 फीट है। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का कहना है कि यह विश्व की सबसे बड़ी मूर्ति है और प्राण प्रतिष्ठा का होने वाला आयोजन किसी छोटे कुम्भ से कम नहीं होगा जिसमे देश भर के साधु संत सहित कई बड़ी हस्तियां शिरकत करेंगी। इसका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए भी दर्ज कराया गया है।