खबर का असर: कलेक्टर ने सिविल सर्जन से मांगा स्पष्टीकरण, जताई नाराजगी

collector-order-probe-in-manhandling-with-patient

जबलपुर।  

जिला अस्पताल में बीते दिनों एक मरीज को कंबल से घसीटकर इलाज के लिए ले जाने का वीडियो वायरल हुआ था।  खास बात ये है कि जिस समय परिजन मरीज को ईलाज के लिए कंबल में घसीटकर ले जा रहे थे उस समय वार्ड बॉय भी मौजूद थे, पर किसी ने भी स्ट्रेचर की व्यवस्था नहीं की। इस घटना की जानकारी सिविल सर्जन डॉ ए.के पांडे तक भी पहुँची पर उन्होंने भी कुछ कार्यवाही नहीं की। लगातार वायरल हो रही इस वीडियो को आज कलेक्टर ने अपने संज्ञान में लिया है। 

कलेक्टर छवि भारद्वाज ने मरीज के साथ हुई इस घटना पर खेद जताते हुए कहा है कि जिला अस्पताल में इस तरह का व्यवहार होना अमानवीय है। कलेक्टर छवि भारद्वाज ने कहा कि अस्पताल में निचले स्तर के अधिकारी कर्मचारियों से मरीज और उनके परिजनों को मदद की अपेक्षा रहती है पर इस वीडियो में ऐसा नही देखा गया। इस घटना को लेकर कलेक्टर ने जहां सिविल सर्जन से स्पष्टीकरण मांगा है वही उस समय ड्यूटी में तैनात नर्स और वार्ड बॉय पर कड़ी कार्यवाही करने की बात कलेक्टर छवि भारद्वाज ने कही है। गौरतलब है कि रमखरिया निवासी मुकेश चौधरी केे पिता मुन्नीलाल चौधरी काम करते समय छत से गिर गए थे। उनके कमर के नीचे हिस्से में हड्डी में चोट आयी है। वे चल फिर नहीं पा रहे हैं। वे उन्हें लेकर हड्डी के डॉक्टर से चेकअप कराने के लिए अस्पताल आना भी जरूरी था।