नकली रेमडेसिवीर इंजेक्शन मामला : सिटी हॉस्पिटल के खिलाफ सख्त कार्यवाही कर एफआईआर की परिजनों ने की मांग

जैसे-जैसे नकली रेमडेसिवीर इंजेक्शन के मामले की पोल खुल रही है तो इसका शिकार हुए मरीज के परिजन भी शिकायत के लिए आगे आ रहे है।

जबलपुर,संदीप कुमार। जबलपुर (Jabalpur) में लाखो रु लेकर नकली रेमडेसिवीर इंजेक्शन (Remdesivir Injection) लगाने वाले सिटी हॉस्पिटल के कारनामों की अब लगातार पोल खुल रही है, मामला उजागर होने के बाद अब लोग अस्प्ताल संचालक के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवा रहे, वही आज अपने पति की मौत के चलते अस्पताल संचालक के खिलाफ ओमती थाने में शिकायत दर्ज करवाई है साथ ही मांग की है कि इस पुरे मामले में कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो और अस्प्ताल संचालक पर हत्या का मामला दर्ज किया जाए।

यह भी पढ़ें…क्रिप्टो कंपनी एथेरम के मालिक विटालिक ब्यूटिरिन ने भारत को दान की क्रिप्टो करेंसी, कोविड रिलीफ फंड में जमा हुई एक बिलियन डॉलर की राशि

1 अप्रैल को भर्ती किया, 9 तारीख को हो गई मौत
गौरतलब है कि माढ़ोताल थाना अंर्तगत रहने वाली नीतू शिवहरे ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को अपनी शिकायत देते हुए बताया कि एक अप्रैल को उसने अपने पति मनोज शिवहरे को सिटी अस्प्ताल में भर्ती करवाया था, उसके पति को मामूली बुखार था, मनोज शिवहरे के भर्ती होते ही परिजनों से ईलाज के नाम पर लाखों रु वसूलने शुरू हो गए, मनोज की पत्नी ने जैसे-तैसे व्यवस्था कर ढाई लाख रु जमा करवाये, इस दौरान चार रेमडेसिवीर इंजकेशन उनको लगाए गए लेकिन अचानक 9 अप्रैल को उनकी तबियत बिगड़ी और मौत हो गई, जिसके बाद प्रशासन ने कोरोना प्रोटोकाल के तहत उनका अंतिम संस्कार किया।

मंडला के किराना व्यापारी की भी हुई मौत-अस्प्ताल ने वसूले 6 लाख 83 हजार 
सिटी अस्पताल के कारनामे उजागर होने के बाद अब लगातार शिकायत करते जा हैं मनोज शिवहरे की पत्नी के बाद अब मंडला में रहने वाले किराना व्यापारी जगदीश के परिजनों ने भी सिटी अस्पताल के ऊपर गंभीर आरोप लगाए हैं मृतक जगदीश के परिजनों ने ओमती थाने में शिकायत दर्ज करवाई है उनका कहना है कि करीब 19 दिन तक 36 वर्षीय जगदीश को अस्पताल में भर्ती रखा गया और इस दौरान 68,3000 रूपए वसूले गए, भर्ती के दौरान जगदीश को ना तो रेमडेसिवीर के इंजेक्शन लगे और ना ही सही इलाज मिल पाया और आखिरकार उसकी मौत हो गई।

परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने की जांच शुरू
सिटी अस्प्ताल के गफलत नामा उजागर होने के बाद अब परिजनों ने शिकायत करना शुरू कर दिया है। इधर परिजनों की शिकायत पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रोहित का स्वामी का कहना है कि इस पूरे मामले की गंभीरता से जांच की जाएगी और जांच में अगर पाया जाता है कि लापरवाही बरती गई है तो दोषियों पर कड़ी कार्यवाही भी होगी।

नकली रेमडेसिवीर इंजेक्शन खरीद कर अपने अस्पताल में भर्ती मरीजों को लगाने के मामले में सिटी अस्पताल के संचालक सरबजीत सिंह मोखा लगातार गिरते जा रहे हैं अब धीरे-धीरे परिजनों ने भी अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवानी शुरू कर दी है बहरहाल अब देखना यह होगा कि परिजनों की शिकायत को पुलिस कितनी गंभीरता से लेती है और क्या कार्यवाही करती है। वही इस मामले में अभी कई और खुलासे होना बाकि है।

यह भी पढ़ें…कोरोना की जंग से लड़ने के लिए देश में अगले हफ्ते से मिलेगी ‘Sputnik V Vaccine’