राशन दुकान विक्रेताओं पर हुई एफआईआर, लगातार मिल रही थी कलेक्टर को शिकायत

जबलपुर, संदीप कुमार। खाद्यान्न वितरण में अनियमितता बरतने पर पनागर तहसील के अंतर्गत आने वाली पाँच उचित मूल्य दुकानों के विक्रेताओं पर कलेक्टर के निर्देश पर खाद्य विभाग द्वारा एफआईआर दर्ज कराई गई है,इन दुकानों में से छत्तरपुर, कुशनेर, महगंवा टगर और मझगंवा की उचित मूल्य दुकान के विक्रेताओं पर पनागर थाने में और रिठौरी की उचित मूल्य दुकान के विक्रेता पर खमरिया थाने में एफआईआर कराई गई है।

हैकर ने मोबाइल नंबर हैक कर दी अपहरण की धमकी, मांगे 20 लाख रुपये

प्रभारी जिला आपूर्ति नियंत्रक सुधीर दुबे के अनुसार इन दुकानों का कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारियों द्वारा किये गये निरीक्षण के दौरान मझगंवा, कुशनेर, रिठौरी एवं महगंवा टगर की दुकानों में गेहूँ, चांवल, शक्कर, नमक और केरोसिन के स्टॉक में अंतर पाया गया था,जबकि छत्तरपुर की उचित मूल्य दुकान से पीओएस मशीन पर उपभोक्ताओं के अंगुलियों के निशान लेने के बावजूद मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना का खाद्यान्न नहीं बांटा गया था।

सुधीर दुबे ने बताया कि स्टॉक के सत्यापन के दौरान खाद्यान्न की मात्रा कम पाये जाने के कारण मझगंवा की उचित मूल्य दुकान के विक्रेता पर 22 हजार 043 रुपये, कुशनेर की उचित मूल्य दुकान के विक्रेता पर 14 हजार 084 रुपये तथा महगंवा टगर की उचित मूल्य दुकान के विक्रेता पर 30 हजार 969 रुपये की वसूली भी निकाली गई है।