Former Finance Minister Tarun Bhanot

जबलपुर, संदीप कुमार। भगवान श्री राम जन्मभूमि अयोध्या में इन दिनों एक नया विषय सुर्खियों में है। और विषय है राम जन्मभूमि मंदिर की जमीन का घोटाला। बताया जा रहा है कि इसमें कई बड़े लोग शामिल है। आज अयोध्या (Ayodhya)का मामला पूरे देश मे छाया हुआ है। वहीं अब उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) के बाद मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में भी इस पर राजनीती शुरू हो गई है। दरसअल मंगलवार को पूर्व वित्त मंत्री तरुण भनोत (Tarun Bhanot) अयोध्या जमीन विषय को लेकर ग्वारीघाट स्थित रामलला अर्जी वाले हनुमान मंदिर पहुंचे। जहां उन्होंने अर्जी वाले हनुमान जी को ज्ञापन सौपा और उनसे प्रार्थना की.

यह भी पढ़ें…दतिया : बडोनी थाना प्रभारी रविंद्र शर्मा ने पेश की मानवता की मिसाल, खून की कमी से परेशान प्रसूता को डोनेट किया ब्लड

अयोध्या है देश की आस्था का केंद्र
ग्वारीघाट स्थित रामलला अर्जी वाले हनुमान मंदिर पहुंचे पूर्व वित्त स्वास्थ्य मंत्री तरुण भनोत ने भगवान को ज्ञापन सौपा। साथ ही प्रार्थना कर कहा कि अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर निर्माण में जो देश के दानदाताओं ने धनराशि सहयोग स्वरूप मंदिर को दी थी। आज उस राशि का मंदिर ट्रस्ट और भाजपा (BJP) के पदाधिकारियों द्वारा भ्रष्टाचार किया जा रहा है। अयोध्या देश की आस्था का केन्द्र है। भगवान श्री राम के करोड़ो भक्त है। इसके बाद भी भाजपा नेताओं ने भगवान की जमीन की खरीद फरोख्त कर दी है, ऐसे लोगो को भगवान माफ नहीं करेंगे।

भगवान बजरंग बली आप से ही न्याय की उम्मीद
अर्जी वाले हनुमान मंदिर पहुंचे पूर्व वित्त मंत्री तरुण भनोत ने कहा कि श्री राम के हनुमान जी परम भक्त है। सम्पूर्ण भारतवासी को आज हनुमान जी से ही भगवान राम की जमीन पाने और न्याय की आस है। ऐसे में अब हम जाए तो कहाँ जाए। क्योकि देश की सभी जाँच एंजेसी आज केंद्र सरकार (central government) के दवाब में कार्य कर रही है। इसलिए अब बजरंगबली से ही न्याय की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें…Video : बेटी ने Gucci की बेल्ट 35 हजार में खरीदी तो मम्मी ने किया ये हाल

ये था पूरा मामला
दरअसल दो करोड़ की जमीन को ट्रस्ट ने साढ़े 18 करोड़ में खरीदा है। पहले जमीन की कीमत दो करोड़ थी, लेकिन महज 10 मिनट में ही डील पक्की हुई और वो कीमत साढ़े 18 करोड़ रुपए हो गई। 10 मिनट के अंतराल में जमीन की कीमत साढ़ 16 करोड़ बढ़ गई। यानी प्रति सेकेंड साढ़े पांच लाख रुपये महंगी होती गई जमीन और 10 मिनटों में कीमत में 9 गुना इजाफा हो गया। इसका खुलासा होने के बाद यह मामला खासा सुखियों में है। जिसके बाद इसपर जमकर राजनीती भी की जा रही है।