जबलपुर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 10 से ज्यादा राज्यों में एटीएम चोरी को अंजाम देने वाला अंतर्राज्यीय गिरोह गिरफ्तार

जबलपुर (Jabalpur) में बीते 3 सालों के भीतर देश के आधा दर्जन से ज्यादा राज्यो में एटीएम मशीन (ATM machine) से लाखों रु की चोरी करने वालो को जबलपुर पुलिस ने गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है।

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर (Jabalpur) में बीते 3 सालों के भीतर देश के आधा दर्जन से ज्यादा राज्यो में एटीएम मशीन (ATM machine) से लाखों रु की चोरी करने वालो को जबलपुर पुलिस ने गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। खास बात यह है कि इस गिरोह का सरगना बीटेक इंजीनियर का छात्र था। वह अपने साथियों के साथ मिलकर एटीएम मशीन से बड़ी ही चालाकी से रु निकाल लिया करता था। जबलपुर पुलिस ने मूख्य आरोपी विजय यादव सहित उसके दो अन्य साथी गगन और अजीत को गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें…दमोह में दलित युवक की पिटाई पर सियासत, कांग्रेस विधायक ने कहा- पुलिस वालों पर नहीं हुआ मामला दर्ज तो बैठेंगे धरने पर

कुछ इस तरह से देते थे चोरी को अंजाम
जबलपुर पुलिस की पूछताछ में पता चला कि विजय यादव और गगन बीटेक इंजीनियर के छात्र है। ये आरोपी आमतौर पर एनसीआर कंपनी के एटीएम मशीन को ही निशाना बनाया करते थे। आरोपी सबसे पहले एटीएम मशीन में कार्ड स्वेप कर पासवर्ड डालकर एमाउंट(रकम) इंटर करते थे। और जैसे ही रु ट्रे में आते तो नुकीली चिमटी से उस ट्रे में फंसा देते थे। जिसके चलते लिंक कट हो जाती थी लेकिन मशीन से रु निकालने के बाद आरोपी बैंक में क्लेम करते कि हमारा पैसा मशीन में फस गया है।

देश के अलग-अलग राज्यों से करीब 43 लाख रु निकाल चुके है आरोपी
जबलपुर पुलिस ने गैंग के सरगना विजय यादव के बैंक एकाउंट की जब जाँच की तो पाया कि उसके खाते से अभी तक करीब 43 से 45 लाख रु का लेनदेन हुआ है। पुलिस अनुमान लगा रही है कि संभवता यह रकम देश के अलग-अलग राज्यो के एटीएम से निकाली गई है। पुलिस ने 3 जून को संजीवनी नगर के पास से विजय यादव को गिरफ्तार किया था और फिर उसकी निशानदेही पर उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) से अजीत और गगन को पकड़ा गया।

इंजीनियर का छात्र बन गया इंटरस्टेट अपराधी
एटीएम चोरी गैंग का मुख्य सरगना विजय यादव ने कानपुर से बीटेक इंजीनियरिंग की है। विजय यादव का एक दोस्त था जो कि उतरप्रदेश में एटीएम मशीन से चिमटी की सहायता से रु निकाल लिया करता था। पूछताछ में विजय ने बताया कि वह अपने दोस्त के संपर्क में आया और फिर उसने भी धीरे-धीरे पहले उत्तरप्रदेश में चोरी करना शुरू किया। बाद में फिर देश के अलग अलग राज्यो में अपनी गैंग के साथ सतर्क हो गया।

दस से ज्यादा राज्यों में दिया एटीएम चोरी को अंजाम
पुलिस पूछताछ में गैंग के सरगना विजय यादव ने बताया कि करीब तीन साल पहले उसने अजीत और गगन के साथ मिलकर एटीएम मशीनों में चोरी करना शुरू किया था। अभी तक आरोपीयो ने दिल्ली-गुजरात-हरियाणा-महाराष्ट्र-राजस्थान-बिहार-उत्तराखंड-पश्चिम बंगाल और मध्यप्रदेश में चोरी को अंजाम दिया है। पुलिस जांच में विजय यादव के तीन बैंक खातों से क्रमशः 33 लाख-12 लाख और 96 हजार रु मिले है। पुलिस ने रु के अलावा आरोपितों से एक कार,दो मोबाइल, 3 एटीएम कार्ड-स्टील की चिमटी-पेचकस और चोरी के 65 हजार रु नगद बरामद किए है।

यह भी पढ़ें…बीजेपी की प्रदेश कार्यसमिति से वंचित पूर्व सीएम का क्षेत्र, जिले से सिंधिया समर्थकों को मिली जगह