मंत्री राकेश सिंह ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा, कहा- कांग्रेस पहले ये तय करे कि राम प्रमुख हैं या राहुल गांधी

Minister Rakesh Singh

Jabalpur News: 22 जनवरी को श्रीराम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का न्योता ठुकराने के बाद कांग्रेस लगातार बीजेपी के निशाने पर बनी हुई है बीजेपी नेता इस मुद्दे पर कांग्रेस को घेरने का कोई भी मौका नहीं छोड़ रहे हैं। इसी सिलसिले में जबलपुर पहुंचे लोक निर्माण मंत्री राकेश सिंह ने फिर कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए जमकर निशाना साधा है। राकेश सिंह ने कहा कि दुर्भाग्य से कांग्रेस हमारी नकल तो करती है लेकिन देर से। ये वही कांग्रेस है जिसने भगवान राम को काल्पनिक बताया था। वहीं प्राण प्रतिष्ठा का विरोध करने वाले कांग्रेसियों को अब लगा की वे अपने ही पैर में कुल्हाड़ी मार रहे हैं। जो कांग्रेसी राम राम नहीं बोलते थे वे अब भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा पर बड़े-बड़े होर्डिंग, बैनर लगाकर बधाइयां दे रहे हैं। कांग्रेसियों की नींद तो खुली लेकिन देर से खुली है। कांग्रेसी कितनी भी कोशिश कर ले अब जनता उनसे सवाल भी कर रही और व्यंग्य भी कर रही है।

कांग्रेस का नेतृत्व कन्फ्यूज्ड है- मंत्री राकेश सिंह

वहीं राहुल गांधी की न्याय यात्रा को लेकर राकेश सिंह ने कहा कि कांग्रेस पहले यह तय करे की राम प्रमुख हैं या राहुल गांधी, क्योंकि कांग्रेसी बहुत कन्फ्यूजन में हैं। जब उनको लगता है कि नुकसान होगा तो जय श्री राम बोलने लगते हैं और जब वोट बैंक का खतरा दिखता है तो न्याय की बात करने लगते हैं, क्योंकि कांग्रेस का नेतृत्व ही कन्फ्यूज्ड और दिशाहीन है।

जबलपुर से संदीप कुमार की रिपोर्ट


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News