जबलपुर में सरकारी गोदाम से करोड़ों की धान हुई गायब, CEO के खिलाफ मामला दर्ज

गोग्रीन कंपनी के डायरेक्टर एवं सीईओ संतोष साहू एवं अन्य द्वारा अपने कर्तव्यों के निवर्हन में जानबूझकर अनुचित लाभ कमाने के प्रयोजन से गंभीर लापरवाही की गई जिससे ओपन केप में भंडारित शासकीय धान खराब हो गई।

Amit Sengar
Published on -
fir

Jabalpur News : जबलपुर के गोसलपुर थाना पुलिस ने हृदयनगर ओपन कैब में रखी करोड़ों रुपए की धान गायब होने के मामले में गुजरात की गोग्रीन कंपनी के सीईओ के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। ओपन कैब से दो करोड़ रुपए से अधिक की धान गायब हो गई थी। गोसलपुर थाना पुलिस ने गोगरीन कंपनी के सीईओ के खिलाफ 406,409,34 की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।

क्या है पूरा मामला

बता दें कि 14 दिसंबर 2021 को गुजरात की गोग्रीन कंपनी के साथ मध्य प्रदेश वेयरहाउसिंग एवं लॉजिस्टिक कार्पोरेशन ने अनुबंध किया था। धान को हृदय नगर कैब में रखकर उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी सीईओ की थी। एएसपी प्रियंका शुक्ला ने बताया कि एस.आर निमोदा जिला प्रबंधक म.प्र.वेयर हाउसिंग एवं लॉजिस्टिक कॉपोर्रेशन द्वारा लिखित शिकायत की थी कि उपार्जन वर्ष 2021-22 में जिले के ओपन केप धान का भंडारण हेतु पीएमएस योजना के तहत मैससृ गोग्रीन वेयर हाउस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी द्वारा म.प्र. वेयरहाउसिंग एवं लॉजिस्टिक कॉपोर्रेशन मुख्यालय भोपाल से अनुबंध कर भण्डारण का करार किया गया, जिसमें ओपन केप पर भंडारित धान का सुरक्षित रखरखाव और संचालन का उत्तरदायित्व कंपनी का था। गोग्रीन कंपनी के डायरेक्टर एवं सीईओ संतोष साहू एवं अन्य द्वारा अपने कर्तव्यों के निवर्हन में जानबूझकर अनुचित लाभ कमाने के प्रयोजन से गंभीर लापरवाही की गई जिससे ओपन केप में भंडारित शासकीय धान खराब हो गई।

थाना गोसलपुर में लिखित शिकायत पर बताया कि ग्राम हृदयनगर स्थिति ओपन केप में दिनांक 14-12-2021 को अनुबंध कर धान भण्डारण का भण्डारण प्रारम्भ होकर दिनांक 19-10-23 की स्थिति में ओपन कैप में कुल 7390.560 मेट्रीक टन धान का भण्डारण होकर कुल 5916, 424 मेट्रीक टन धान की निकासी हुई, जिसमें से शेष धान की मात्रा 1474.136 में से (2 प्रतिशत मान्य कमी को छोड़कर) शेष 1326.325 मेट्रीक टन धान कुल कीमती (19400 प्रति मैट्रीक टन की दर से कुल कीमती 2 करोड़ 57 लाख 30 हजार 705 रूपये कीमती धान का) डायरेक्टर संतोष साहू ग्रोग्रीन वेयर हाउस प्राय० लिमि० एवं उनके कमिर्यों द्वारा खुर्द-बुर्द किया गया। इससे शासन को आर्थिक क्षति हुई है।

जबलपुर से संदीप कुमार की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News