जबलपुर, संदीप कुमार। नकली इंजेक्शन (Duplicate Remdesivir Injection) मामले के मुख्य आरोपी सरबजीत सिंह मोखा के बड़े बेटे हरकरण सिंह मोखा की गिरफ्तारी के बाद नए खुलासे हो रहे हैं। एसआईटी की प्रांरभिक पूछताछ में पता चला कि देवेश चौरसिया के पास जो दो इंजेक्शन बरामद हुए थे वह हरकरण ने उपलब्ध कराए थे। इधर सरबजीत सिंह मोखा की कोरोना रिपोर्ट आने के बाद एसआईटी ने कल तक मोखा की रिमांड लेकर पूछताछ कर सकती है।

यह भी पढ़ें:-70 साल की महिला मरीज को दी DRDO की 2-DG, ऑक्सीजन लेवल पहुंचा 94

मामले में लंबे समय से फरार चल रहे थे हरकरण सिंह मोखा ने छुपने के लिए अनेक स्थानों को बदला। दिल्ली में फरारी के दौरान वह महिला मित्रों से घिरा था। गिरफ्तारी के बाद हरकरण सिंह मोखा द्वारा सिलसिलेवार जानकारी पुलिस को दी जा रही है। आरोपी हरकरण सिंह मोखा फरारी के दौरान कहां-कहां गया और इसके पनाहगार कौन थे इसकी विस्तृत जांच में एसआईटी जुटी हुई हैं। बताया जा रहा है कि दिल्ली में किन महिला मित्रों के साथ हरकरण था उसकी जानकारी जुटाई जा रही है। साथ ही जबलपुर में किन दोस्तों ने हरकरण की फरारी कटाने में साथ दिया, इसका भी पुलिस पता लगा रही है।

यह भी पढ़ें:-बोले नरोत्तम – वैक्सीन पर भ्रम फैलाने वाले चोरी छुपे लगवा रहे हैं टीका

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रोहित काशवानी ने जानकारी देते हुए बताया कि हरकरण सिंह मोखा का आज जिला अस्पताल विक्टोरिया में मुलाहिजा हुआ। हरकरण को रिमांड पर लेने के लिए प्रक्रिया जारी है। जल्द ही कोर्ट में आवेदन देकर उसे रिमांड पर लिया जाएगा।