लापता नहीं जबलपुर में इलाज करा रहे तहसीलदार, जिम्मेदार अधिकारियों से खफा

tahseeldar-vivek-tripathi-is-not-missing

जबलपुर| डिंडोरी में पदस्थ तहसीलदार विवेक त्रिपाठी के लापता होने की सारी खबरो को स्वयं तहसीलदार ने विराम लगा दिया है। जबलपुर में अपना इलाज करवा रहे तहसीलदार विवेक त्रिपाठी ने मीडिया के सामने आकर अपने लापता न होने की बात कही। तहसीलदार विवेक त्रिपाठी का कहना है कि जिस तरह से मीडिया में मुझे गायब बताया जा रहा है ये बहुत ही सरप्राइजिंग है मेरे लिए। मैं कलेक्टर मेडम के हर लेटर का जवाब दे रहा हूँ इतना ही नही सारे मेडिकल सर्टिफिकेट डीएम मेडम को भेजे गए है, एक प्रॉपर चैनल कलेक्टर ओर अधिकारियों का वो सब चल रहा है उसके बाद अचानक आज मीडिया का हमला हो जाता है। मुझे लापता बताया जा रहा है।

तहसीलदार विवेक त्रिपाठी का कहना है कि एक जिम्मेदार पद पर बैठे अधिकारी का इस तरह से बर्ताव करना समझ से परे है।उन्होंने कहा कि मैं 2018 अक्टूबर को जॉइन किया था उसके बाद डिंडोरी में बीमार हो गया जिससे कलेक्टर को अवगत भी करवाया गया है।तहसीलदार ने कहा कि मैं न्यूरोलॉजी समस्या से जूझ रहा है जिसके सारे लेटर भी भेजे है।विवेक त्रिपाठी ने कहा कि चाहे तो कलेक्टर मेडम मेडिकल बोर्ड के सामने मुझे पेश कर दे।फिलहाल तहसीलदार विवेक त्रिपाठी अब इस पूरे मामले को लेकर अपने उच्च अधिकारियों से मुलाकात कर जाँच करवाने की बात कही है।हम आपको बता दे कि डिंडोरी कलेक्टर सुरभि गुप्ता ने जबलपुर डीएम और एसपी को पत्र लिखकर तहसीलदार विवेक त्रिपाठी का नाम पता तलाश करने की गुजारिश की थी।